भारत का राष्ट्रीय चिह्न- सम्पूर्ण जानकारी - Best Help Hindi

भारत का राष्ट्रीय चिह्न महत्वपूर्ण तथ्य

 अशोक स्तम्भ मौर्य साम्राज्य के शासक महान सम्राट अशोक द्वारा सारनाथ में बनवाये गए स्तम्भ से लिया गया है। 

 अशोक स्तम्भ मौर्य साम्राज्य के शासक महान सम्राट अशोक द्वारा सारनाथ में बनवाये गए स्तम्भ से लिया गया है। 

राजचिह्न में चार एशियाई शेरों के पीछे पीछे खड़े हुए हैं,जो शक्ति, साहस, आत्मविश्वास और गौरव का प्रतीक है।

राजचिह्न में चार एशियाई शेरों के पीछे पीछे खड़े हुए हैं,जो शक्ति, साहस, आत्मविश्वास और गौरव का प्रतीक है।

नीचे एक घोड़ा और एक बैल है, और इसके केंद्र में एक सुंदर पहिया  (धर्म चक्र) है। 

नीचे एक घोड़ा और एक बैल है, और इसके केंद्र में एक सुंदर पहिया  (धर्म चक्र) है। 

एक हाथी (पूरब के), एक बैल (पश्चिम), घोड़े (दक्षिण), और शेर (उत्तर की) है जो बीच में पहियों से अलग होते हैं। 

एक हाथी (पूरब के), एक बैल (पश्चिम), घोड़े (दक्षिण), और शेर (उत्तर की) है जो बीच में पहियों से अलग होते हैं। 

"सत्यमेव जयते" भारत का आदर्श वाक्य है जो कि भारत के राष्ट्रीय प्रतीक में चिन्हित है और यह मूल रूप से "मूण्डकोपनिषद" से लिया गया है ।  

"सत्यमेव जयते" भारत का आदर्श वाक्य है जो कि भारत के राष्ट्रीय प्रतीक में चिन्हित है और यह मूल रूप से "मूण्डकोपनिषद" से लिया गया है ।  

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह या प्रतीक जो कि अशोक के सारनाथ स्तंभ से लिया गया है, 26 जनवरी 1950 को अपनाया गया। 

भारत का राष्ट्रीय चिन्ह या प्रतीक जो कि अशोक के सारनाथ स्तंभ से लिया गया है, 26 जनवरी 1950 को अपनाया गया।