X

कामकाजी महिलाओं की समस्या | Problems of Working Women:

कामकाजी महिलाओं की समस्या (Problems of Working Women)

कुशल अथवा अकुशल श्रम के द्वारा आजीविका अर्जन करने वाली नारी कामंकाजी महिला है। बिना ‘ सर्विस’ के परिवार को सहयोग देने वाली नारी कितना ही श्रम क्यों न करती हो, वह कामकाजी नहीं कहलाती, क्योंकि उसे श्रम का प्रतिदान नहीं मिलता। श्रम का प्रतिदान ‘वेतन’ अथवा ‘ पारिश्रमिक’ प्राप्त करना कामकाजी महिला की पहचान है।

कामकाजी महिलाओं की समस्या: कामकाजी महिला का क्षेत्र

‘कामकाजी महिलाओं का क्षेत्र अत्यन्त विशाल है। सरकारी, अर्द्धसरकारी या निजीकार्यालयों में काम करने वाली, प्रशासनिक कार्यों में हाथ बटाने वाली, खेत-खलिहान,फैक्ट्रियों, कारखानों तथा मिल जैसे औद्योगिक संस्थाओं में काम करने वाली, पुलिस तथासेना में कार्यरत महिलाएँ, न्याय सिंहासन को सुशोभित करने वाली स्त्रियाँ ‘कामकाजीमहिलाओं ‘ की श्रेणी में आती हैं।

कामकाजी महिलाओं की समस्या

प्राचीन काल से घर-गृहस्थी का दायित्व नारी पर और धन का उपार्जन पुरुष पर रहा है। अर्द्ध नारीश्वर की पावन भावना इसी सत्य को उजागर करती है। समय बदला। नारी शिक्षा और बढ़ती महँगाई के कारण परिवार चलाने की समस्या ने नारी को घर के बाहर कमाई के क्षेत्र में धकेल दिया।

विवशतावश इस क्षेत्र में आई नारी, अब इस क्षेत्र में गर्व का अनुभव करती है। ‘सर्विस’ द्वारा वह पुरुष के अहं और अर्थ-परतन्त्रता की लौह शृंखलाओं को तोड़ने के साहसिक प्रयास में रत है। साथ ही है उसमें ‘ अहं ‘ के पोषण की चाह और ‘स्व” के विकास की तीत्र भावना।

कामकाजी महिलाओं की समस्या: पारिवारिक और सामाजिक समस्या

‘परिवार-पालन कामकाजी महिला की महती समस्या है। सफाई-व्यवस्था, नाश्ता-भोजन, बच्चों तथा परिवार का दायित्व, पति की प्रसन्‍नता आदि को निभा पाना क्या ऐसी नारी के लिए संभव है ? कोमल शरीर एक, और गृहस्थी के झंझट अनेक महिला का शरीर,माँस पेशियों का कोमल ढाँचा है, कोई लौह मशीन नहीं । दुहरी थकान, क्लान्ति, सिर दर्द,“मूड ऑफ ‘, सब उसके लिए भी हैं।

‘कामकाजी महिला के परिवार में माता-पिता या सास-स्वसुर, ननद-देवर यदि हों और उनमें पारस्परिक विश्वास और सहयोग का भाव हो तो परिवार इन्द्रधनुष-सा सुन्दर बन जाता है।घरेलू काम-काज में कुछ सुविधा, विश्रान्ति का समय तथा जीवन-जीने का आनन्द मिल जाता है, परन्तु यही स्थिति पलटा खाती हो तो पति से पत्नी की शिकवे-शिकायतें,घर में काना-फूसी, षड्यंत्र तथा सम्पूर्ण दायित्व का बोझ कामकाजी महिला पर डाल दिया जाए तो उसका जीवन नरक-सम बन जाता है।

परिवार का एक अंग है-संतान। संतान के उज्ज्वल भविष्य के लिए कामकाजी महिला खप रही है, जीवन को होम कर रही है, परन्तु वह उपेक्षा भी अपनी संतान की करती है। कितना विरोधाभास है उसके जीवन में । बच्चे को नित्य प्रति अनिवार्य समय देने, उसके-स्कूली अध्ययन में भागीदार बनने, उनके दैनिन्दिन आचरण तथा चालचलन की निगरानी रखने तथा उत्तम संस्कार देने की असमर्थता से बच्चे उपेक्षित रह जाते हैं। ‘फलत: उसमें उच्छृंखलता, उदंडता तथा कर्तव्य-विमुखता घर कर जाती है । इसमें भी यदि माता-पिता में परस्पर स्नेह संबंध न हों तो बच्चा अपराधबोध लेकर जीयेगा। इसे कहते हैं-

‘ विनायकं प्रकुर्वाणो रचयामास वानरम्‌’, चले थे बनाने गणेश जी, बन गया बंदर।

इस प्रकार कामकाजी महिला सन्तान के भविष्य से खिलवाड़ करती है।

‘परिवार बनाकर रहने वाला एक मनुष्य सामाजिक प्राणी है । परिवार में उसके समीपस्थ और थोड़े दूर के रिश्तेदार शामिल हैं । पति-पत्नी तथा माता-पिता के विवाहित भाई-बहनों को इस सीमा में ले सकते हैं। दूर के रिश्तों में भाई तथा बहिनों, मौसी तथा बुआ से जुड़े परिवारों को ले सकते हैं । समाज में पड़ोसी-मित्र तथा संगी साथी हैं ।

पर्व-त्यौहार, जन्म-मरण, मंगलमय उत्सव तथा कष्ट-प्रद पीड़ा में एक-दूसरे के यहाँ आना-जाना, यही सामाजिकता है, पारिवारिकता है। जब पति-पत्नी, दोनों ही सर्विस में हों तो यह आना-जाना समयाभाव के कारण भारी पड़ जाता है। भारी पड़ने का अहसास आने-जाने में दीवार खड़ी करता है। सम्बन्ध शिथिल होते हैं। रिश्तेदारों की नाराजगी महँगी पड़ सकती है, इसीलिए कामकाजी महिला की प्रकारान्तर से यह भी एक अन्य समस्या है।

कामकाजी महिलाओं की समस्या: कामकाजी महिलाओं का शोषण व स्थानान्तरण

घर से दफ्तर जाने और दफ्तर से घर लौटने के लिए वाहन चाहिए। वाहन अर्थात्‌ बस या लोकल ट्रेन। महानगरों की बसों में जिस प्रकार दूँस-दूँस कर सवारियाँ भरी जाती हैं,जेबें कटती हैं, नारी से छेड-छाड़ होती है, अपमान होता है, अश्लील तथा श्लिष्ट (दो अर्थ वाले) शब्दों से स्वागत होता है तथा खड़े-खड़े यात्रा पूर्ण करनी पड़ती है, कामकाजी महिला की ये विवशताएं हैं।

काम पर ‘मेकअप’ करके या सज-सँवर कर पहुँचना, यह ऑफिस या कार्यक्षेत्र की आवश्यकता है। महिला कर्मचारी इस दृष्टि से अधिक सचेत रहती है । रूपवती दिखने की यह चाह नारी की प्रकृति है। साथियों तथा अधिकारियों के साथ अर्ध-मुस्कान से मधुर-वचन बोलना, हास-परिहास करना आम बात है। इस सहजता में जब कामकाजी महिला अपने को खो देती है तो वह कहीं न कहीं, किसी न किसी से वासनात्मक संबंध बना बैठती है।दूसरी ओर, किसी ऑफीशियल उलझन में फँसने, पदोन्नति चाहने तथा विशेष-सुविधा प्राप्त करने के लिए कामकाजी महिला का आत्म-समर्पण भी उसकी विवशता है।

‘शरीर को तिल-तिल क्षीण करना कामकाजी महिला की अन्य समस्या है। शारीरिक सामर्थ्य से अधिक काम लेना शरीर-शोषण है। जिस नारी के भाग्य में मेज-कुर्सी नहीं,शारीरिक मजदूरी से ही जो आजीविका कमाती हैं, उनका शरीर क्षीण होता ही है। पुलिस और सेना की नौकरी भी कम शरीर तोड़क नहीं । “वह तोड़ती पत्थर” में तो महाकवि निराला ने इसी ओर संकेत किया है। निराला का हृदय उसी दृश्य से द्रवित हो उठा था।

कामकाजी महिलाओं की समस्या: उपसंहार

इस प्रकार कामकाजी महिलाओं की अनेक समस्याएं हैं। ये समस्याएँ, उनके लिए शाश्वत हैं, अनिवार्य हैं। जब उसने घर की लक्ष्मण-रेखा पार कर, दाम्पत्य-जीवन और संतान के भविष्य को दाँव पर लगाया है तो मन में घुटन क्यों ? इवन्द्रग्रस्तता क्यों ? नौकरी करनी है तो नखरे कैसे ? ओखली में सिर दिया है तो मूसली का डर क्यों ? निराशा, हताशा,कुंठा समस्या को विकरालता प्रदान करेंगी। इन समस्याओं के होते हुए भी नारी में धैर्य हो और संघर्ष से दो हाथ करने का पूर्ण सामर्थ्य हो तो उक्त समस्याएं उससे हार जाएंगी।


नारी /महिलाओं से सम्बंधित अन्य निबंध भी पढ़ें

भारतीय नारी पर हिंदी में निबंध ( Eassy on Indian Woman in Hindi)
भारतीय नारी की सामाजिक स्थिति (Social Status of Indian Woman in Hindi)
आधुनिक भारतीय नारी पर निबंध (Eassy on Modern Woman in Hindi)
आधुनिक नारी की समस्याएँ पर निबंध ( Essay on Problems of Modern Woman in Hindi)

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.