X

मेरा प्रिय खेल पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण । 600 Words Essay speech on My Favorite Game in Hindi

मेरा प्रिय खेल पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण । 600 Words Essay speech on My Favorite Game in Hindi

मेरा प्रिय खेल से जुड़े छोटे निबंध जैसे मेरा प्रिय खेल पर  600 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  600 Words Essay speech on My Favorite Game in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

600 Words Essay Speech on My Favorite Game in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

भारतवर्ष में अनेक खेल खेले जाते हैं। कुछ खेल शहरों में लोकप्रिय हैं, तो कुछ गांवों में क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, बॉस्केटबॉल आदि शहरों के लोकप्रिय खेल हैं, जबकि कबड्डी, चिक्का, गुल्ली-डंडा, आंख-मिचौनी एवं बुढ़िया कबड्डी ग्रामीण क्षेत्रों के प्रिय खेल हैं। क्रिकेट, हॉकी आदि खेलों में बहुत से कीमती साधनों की आवश्यकता होती है, जैसे-पोशाक, बॉल, बल्ला, स्टिक आदि।

इन खेलों के लिए बड़ा और सुसज्जित मैदान भी होना चाहिए। इसके साथ ही क्रिकेट आदि खेलों में गंभीर चोट लगने का भी भय बना रहता है। लेकिन बुढ़िया कबड्डी एक ऐसा खेल है, जिसमें न तो किसी प्रकार के साधन की आवश्यकता होती है और न ही गंभीर चोट लगने की संभावना रहती है। इसे नगर सेठ का बच्चा भी खेलता है और झोंपड़ी में रहने वाला गरीब बालक भी। इसलिए बुढ़िया कबड्डी ही मेरा सबसे प्रिय खेल है।

स्कूल में शाम को छुट्टी होते ही हम सभी एक जगह एकत्र हो जाते हैं। हममें से दो कप्तान चुन लिए जाते हैं। उसी प्रकार अन्य लोग भी दो हिस्सों में समान रूप से बंट जाते हैं। इसके बाद सिक्का उछालकर निर्णय किया जाता है कि पहले किसका दांव होगा? जिसका दांव होता है, उसकी बुढ़िया गोलाकार में बैठती है। उसी दल के शेष खिलाड़ी बुढ़िया से कुछ दूरी पर एक आयताकार घेरे के अंदर जगह ले लेते हैं।

दूसरे दल के खिलाड़ी बुढ़िया को चारों तरफ से घेरते हुए मैदान में फैल जाते हैं। अब खेल आरंभ हो जाता है। पहले दल का ‘खिलाड़ी अपने घर से बाहर ‘कबड्डी कबड्डी’ बोलता हुआ दूसरे दल पर हमला करता है। सामान्यतः इस खेल में एक ही सांस में यह बोल बोला जाता है –

खेल कबड्डी आइला, तबला बजाइला । तबले में पैसा, लाल बजइचा ॥

अगर पहले दल का खिलाड़ी दूसरे दल के किसी खिलाड़ी को छूकर एक ही श्वास में अर्थात सांस टूटे बिना अपने घर में वापस आ जाता है, तो दूसरे दल के उस खिलाड़ी को मृत घोषित कर दिया जाता है। इस प्रकार पहला दल विजयी हो जाता है। यदि खेल के बीच अवसर पर दिया अपने पर भा जाती है, तो यह दल विजयी हो जाता है। अगर बुढ़िया के भागने के क्रम में दूसरे दल के किसी खिलाड़ी द्वारा छू जाती है, तो दिया का दल हार जाता है। अत: इस खेल में बुढ़िया का स्थान महत्वपूर्ण होता है।

इस प्रकार बुढ़िया कबड्डी का खेल बड़ा सरल, मनोरंजक और स्वास्थ्यवर्धक होता है। इससे समस्त मांसपेशियों का अच्छा व्यायाम हो जाता है।

600 Words Essay speech on My Favorite Game in Hindi

यह भी पढ़ें :-

सचिन तेंदुलकर पर  600-700 शब्दों में  निबंध, भाषण

मै आशा करती हूँ कि  मेरा प्रिय खेल पर लिखा यह निबंध ( मेरा प्रिय खेल पर  600 शब्दों में  निबंध,भाषण । 600 Words Essay speech on My Favorite Game in Hindi) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा (Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.