X

हॉकी पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण । 600 Words Essay speech on Hockey in Hindi

हॉकी पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण – 600 Words Essay speech on Hockey in Hindi

हॉकी से जुड़े छोटे निबंध जैसे हॉकी पर  600 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  600 Words Essay speech on Hockey in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

600 Words Essay Speech on Hockey in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

कहा जाता है कि जिस प्रकार क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया का खेल है और फुटबॉल ब्राजील का, उसी प्रकार एक समय हॉकी को भारत का खेल माना जाता था। लेकिन आजादी मिलने के बाद खेल में राजनीति का प्रवेश हो जाने से भारतीय हॉकी में काफी गिरावट आ गई। फलतः हम हॉकी की अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा में पिछड़ते चले गए। फिर भी हॉकी भारत का एक लोकप्रिय और रोचक खेल है। भारत में इसे ‘राष्ट्रीय खेल‘ का दर्जा प्राप्त है।

हॉकी का खेल दो टीमों के बीच खेला जाता है। प्रत्येक टीम में ग्यारह ग्यारह खिलाड़ी होते हैं-एक गोलकीपर, दो फुलबैक, तीन हाफबैक और पांच सेंटर फॉरवर्ड। गोलकीपर सुरक्षात्मक दृष्टिकोण से एक विशेष प्रकार के वस्त्र से सुसज्जित रहता है, ताकि उसे किसी प्रकार की चोट न लगे। खिलाड़ियों में एक कप्तान रहता है। खेल में दो निर्णायक होते हैं, जिन्हें ‘रेफरी’ कहा जाता है। हर खिलाड़ी को रेफरी के आदेशों का पालन करना पड़ता है।

हॉकी मैच प्रारंभ होने के पूर्व दोनों कप्तानों के सामने रेफरी द्वारा सिक्का उछाला जाता है। जो कसान टॉस जीतता है, वह मैदान का अपना मनमाना छोर चुनता है और गेंद को पहले स्ट्राइक करता है। प्रत्येक दल के खिलाड़ियों का अपना अलग-अलग परिधान रहता है, जिसे ‘जर्सी’ कहा जाता है। जो टीम ज्यादा गोल करती है, उसकी जीत हो जाती है।

राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर हॉकी मैच का आयोजन किया जाता है। नेहरू कप, आगा खां कप, ध्यानचंद हॉकी तथा बांबे गोल्ड कप आदि राष्ट्रीय स्तर के हॉकी मैच के आयोजन हैं। हॉकी का विश्वकप, ओलंपिक पदक, एशियाड आदि अंतर्राष्ट्रीय स्तर के आयोजन हैं। सन 1936 के ओलंपिक में ध्यानचंद नामक एक ऐसा भारतीय सितारा चमका, जिसे सारी दुनिया ने ‘हॉकी का जादूगर‘ कहा था। 1928, 1932, 1936, 1948, 1952, 1964 तथा 1980 के ओलंपिक में हॉकी का स्वर्ण पदक जीतकर हम विश्व के सिरमौर बने। लेकिन सन 1996 में हमें ‘फेयरप्ले अवार्ड’ से ही संतोष करना पड़ा।

हॉकी का खेल हॉकी और गेंद द्वारा खेला जाता है। इसमें भी किसी के खिलाड़ी द्वारा जब हॉको से गेंद को गोल की ओर ले जाया जाता है, तो क्षण अत्यंत रोमांचक होता है। कई बार दूसरी टीम का खिलाड़ी एक ही मारकर गेंद को गोलपोस्ट में पहुंचा देता है। ऐसे में गोल होने पर दर्शकों तालियों की आवाज गूंजने लगती है।

600 Words Essay speech on Hockey in Hindi

FAQ:-

हॉकी का हिंदी नाम क्या है?

 1. गेंद खेलने की एक प्रकार की छड़ी जिसका अगला सिरा कुछ मुड़ा होता है 2. उक्त छड़ी तथा गेंद से खेला जाने वाला खेल।

हॉकी खेल कितने मिनट का होता है?

हॉकी खेल खेलने की अवधि 60 मिनट होती है, जिसे 4 क्वार्टर में खेला जाता है। इस दौरान 1 क्वार्टर और 3 क्वार्टर के बाद दोनों टीमों को 2 मिनट का ब्रेक मिलता है। हालांकि हाफ टाइम के बाद 15 मिनट का अंतराल भी होता है।

राष्ट्रीय खेल हॉकी कब घोषित किया गया?

भारत में हॉकी को राष्ट्रीय खेल 1928 में भारत हॉकी का विश्व विजेता बनने के बाद घोषित किया गयाI

हॉकी के मैदान को क्या कहते हैं?

फील्ड हॉकी या मैदानी हॉकी

भारत का राष्ट्रीय खेल कौन सा है?

हॉकी

हॉकी टीम में कितने खिलाड़ी होते हैं?

हॉकी टीम में 11 खिलाड़ी रहते हैंI

भारत ने हॉकी में प्रथम ओलंपिक स्वर्ण कब जीता?

1928

‘हॉकी का जादूगर’ किसे कहा जाता है ?

मेजर ध्यानचंद को ‘हाँकी का जादूगर’ कहा जाता है I

यह भी पढ़ें :-

खेलों का महत्व पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण

फुटबॉल पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण 

एक फुटबॉल मैच का वर्णन पर 600 शब्दों में निबंध, भाषण

मै आशा करती हूँ कि  हॉकी पर लिखा यह निबंध ( हॉकी पर  600 शब्दों में  निबंध,भाषण । 600 Words Essay speech on Hockey in Hindi) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा (Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.