X

नारी शिक्षा पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Women Education in Hindi

नारी शिक्षा पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Women Education in Hindi

नारी शिक्षासे जुड़े छोटे निबंध जैसे नारी शिक्षापर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Women Education in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Women Education in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

कहा गया है कि जहां स्त्रियों की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं। जहां इनका निरादर होता है, वहां सभी क्रियाएं निष्फल हो जाती है। नारी को ‘गृह देवी’ या ‘गृह लक्ष्मी’ भी कहा जाता है। यह भी मान्यता है कि मां सर्वश्रेष्ठ और सर्वप्रथम गुरु है। लेकिन संतान को संस्कार तो वह तभी दे पाएगी, जब वह स्वयं संस्कारी और शिक्षित होगी। इस तथ्य को समझते हुए ही यह कहा गया है कि जहां इनका निरादर होता है, यहां सभी क्रियाएं निष्फल हो जाती हैं।

प्राचीन समय में नारी शिक्षा पर विशेष बल दिया जाता था। परंतु मध्यकाल में स्त्रियों की स्थिति दयनीय हो गई। उसका जीवन घर की चारदीवारी में सीमित हो गया। नारी को परदे में रहने के लिए विवश कर दिया गया। गुलामी की वजह से ऐसा करना विवशता भी थी। लेकिन आजादी के बाद तो ऐसा नहीं होना चाहिए था।

स्त्री-पुरुष जीवन रूपी रथ के दो पहिए हैं, इसलिए पुरुष के साथ-साथ स्त्री का भी शिक्षित होना जरूरी है। यदि माता सुशिक्षित होगी तो उसकी संतान भी सुशील और शिक्षित होगी। शिक्षित गृहिणी पति के कार्यों में भी हाथ बंटा सकती है, परिवार को सुचारु रूप चला सकती है। स्त्री शिक्षा का प्रसार होने से नारी आर्थिक दृष्टि से आत्मनिर्भर बनेगी। अपने अधिकारों और कर्तव्यों के प्रति सचेत होगी। आदर्श गृहिणी परिवार का सच्चा आभूषण और समाज का गौरव होती है।

स्त्री के लिए किताबी शिक्षा के साथ-साथ नैतिक शिक्षा भी बहुत जरूरी है, ताकि वह गृहकार्य में कुशल होने के साथ-साथ समाजसेवा में भी भली प्रकार से योगदान दे सके। नारी का योगदान समाज में सबसे ज्यादा होता है। बच्चों के लालन-पालन और शिक्षा से लेकर नौकरी तक नारी हर क्षेत्र में पुरुषों से आगे है। अतः नारी को कभी कम नहीं आंकना चाहिए और उसका सदैव सम्मान करना चाहिए।

यह भी पढ़ें :-

नारी का सम्मान  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Respect for Women in Hindi
वृक्ष- हमारे संरक्षक  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Tree Our Protector in Hindi
सफल जीवन की सच्ची सीख पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on True Lessons of Successful Life in Hindi
जीवन का सत्य पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Truth of Life in Hindi
विश्वकर्मा की पूजा पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Vishwakarma Pooja in Hindi

200-300 Words Essay speech on Women Education in English

200-300 Words Essay speech on Women Education

It is said that where women are worshipped, the gods reside there. Where they are humiliated, there all actions become fruitless. The woman is also called ‘Griha Devi’ or ‘Griha Lakshmi’. It is also believed that the mother is the best and first teacher. But she will be able to give Sanskar to the child only when she herself is cultured and educated. Realizing this fact, it has been said that where they are disrespected, here all the actions become fruitless.

In ancient times, special emphasis was given to women’s education. But in the medieval period, the condition of women became pathetic. His life was confined to the boundary wall of the house. The woman was forced to live in the purdah. It was also a compulsion to do so because of slavery. But after independence, this should not have happened.

Men and women are the two wheels of the chariot of life, so it is necessary to educate the woman along with the man. If the mother is well educated then her child will also be intelligent and educated. An educated housewife can also help in the husband’s work, can run the family smoothly. With the spread of female education, women will become financially independent. Be aware of your rights and duties. The ideal housewife is the true jewel of the family and the pride of society.

Along with book education, moral education is also very important for a woman, so that she can contribute well in social service along with being proficient in homework. Women contribute the most to society. From the upbringing of children and education to jobs, women are ahead of men in every field. Therefore a woman should never be underestimated and should always be respected.


मै आशा करती हूँ कि  नारी शिक्षापर लिखा यह निबंध ( नारी शिक्षा  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Women Education in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.