X

स्वर्ण मंदिर पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Swarna Mandir in Hindi

स्वर्ण मंदिर पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Swarna Mandir in Hindi

स्वर्ण मंदिर से जुड़े छोटे निबंध जैसे स्वर्ण मंदिर पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Swarna Mandir in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Swarna Mandir in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

श्री हरिमंदिर साहिब (पंजाबी भाषा में हरिमंदर साहिब, हरमंदिर साहिब). जिसे दरबार साहिब या स्वर्ण मंदिर भी कहा जाता है, सिख धर्मावलंबियों का पावनतम धार्मिक स्थल या सबसे प्रमुख गुरुद्वारा है।

यह भारत के राज्य पंजाब के अमृतसर शहर में स्थित है और यहां का सबसे बड़ा आकर्षण है। पूरा अमृतसर शहर स्वर्ण मंदिर के चारों तरफ बसा हुआ है। स्वर्ण मंदिर में प्रतिदिन हजारों श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं।

अमृतसर का नाम वास्तव में उस सरोवर के नाम पर रखा गया है, जिसका निर्माण गुरु राम दास जी ने स्वयं अपने हाथों से किया था। यह गुरुद्वारा इसी सरोवर के बीचोबीच स्थित है। इस गुरुद्वारे का बाहरी हिस्सा सोने का बना हुआ है, इसलिए इसे स्वर्ण मंदिर अथवा ‘गोल्डन टेंपल’ के नाम से भी जाना जाता है।

श्री हरिमंदर साहिब को ‘दरबार साहिब’ के नाम से भी ख्याति प्राप्त है। यूं तो यह सिखों का गुरुद्वारा है, लेकिन इसके नाम में मंदिर शब्द का जुड़ना यह स्पष्ट करता है कि भारत में सभी धर्मों को एक समान माना जाता है। इतना ही नहीं, श्री हरमंदर साहिब की नींव भी एक मुसलमान ने ही रखी थी।

इतिहास के अनुसार, सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव जी ने लाहौर के एक सूफी संत साई मियां मीर जी से दिसंबर 1588 में इस पवित्र गुरुद्वारे की नींव रखवाई थी। सिखों के लिए स्वर्ण मंदिर बहुत ही महत्वपूर्ण है। सिखों के अलावा अन्य धर्मों की आस्था से जुड़े बहुत से श्रद्धालु यहां आते हैं, जो यहां की व्यवस्था और सेवा कार्यों की प्रशंसा करते हैं।

किसी भी आपदा के समय इस पवित्र स्थान की सेवाएं देशवासियों के लिए अत्यंत महत्त्वपूर्ण होती हैं। अपने गुरुओं की शिक्षा सेवा और सिमरन का साकार रूप है यह पवित्र स्थान-स्वर्ण मंदिर।

200-300 Words Essay speech on Swarna Mandir

FAQ:-

स्वर्ण मंदिर कौन से राज्य में स्थित है?

पंजाब (Punjab)

स्वर्ण मंदिर की नींव कब और किसने रखी ?

सिखों के पांचवें गुरु अर्जन देव जी ने लाहौर के सूफी संत साईं मियां मीर से दिसंबर 1588 में गुरुद्वारे की नींव रखवाई थी।

स्वर्ण मंदिर में कितना सोना लगा है?

स्वर्ण मंदिर 1500 किलो शुद्ध सोने से बना है। इसी वजह से इसे भारत का ‘स्वर्ण मंदिर’ या ‘गोल्डन टेंपल’ कहते हैं।

गोल्डन टेंपल को हिंदी में क्या कहते हैं?

स्वर्ण मन्दिर

हरमंदिर साहिब की स्थापना कब हुई थी?

सिखों के पांचवें गुरु अर्जुन देव जी ने लाहौर के एक सूफी संत साईं मियां मीर जी से दिसंबर, 1588 में गुरुद्वारे की नींव रखवाई थी।

अमृतसर में कौन सी नदी है?

रावी

गोल्डन टेम्पल कब बना?

1577 में चौथे सिख गुरु गुरु राम दास ने इसकी शुरुआत की थी और पांचवें गुरु अर्जन ने मंदिर की स्थापना की थी। मंदिर का निर्माण 1581 में शुरू हुआ था, मंदिर के पहले संस्करण को पूरा करने में आठ साल लगे थे।

यह भी पढ़ें :-

भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi
मेरा प्रिय मौसम वर्षा पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi
समय का सदुपयोग पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Good Use of Time in Hindi
स्वास्थ्य ही धन है पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in Hindi
हिमालय पर्वत पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Himalaya Parvat in Hindi

मै आशा करती हूँ कि  स्वर्ण मंदिर पर लिखा यह निबंध ( स्वर्ण मंदिर  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Swarna Mandir in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.