X

गंगा नदी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on River Ganaga in Hindi

गंगा नदी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on River Ganaga in Hindi

गंगा नदी से जुड़े छोटे निबंध जैसे गंगा नदी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on River Ganaga in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on River Ganaga in Hindi for class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

गंगा नदी भारत की प्राचीन नदियों में से एक है और इसका अपना एक इतिहास है। इसे सब भारतीयों की आस्था के एक प्रतीक रूप में स्वीकार किया जाता है, इसलिए यह मानो जीवंत आस्था ही है। यह नदी हिमालय की गोद गोमुख से निकल कर मैदानी इलाकों में आती है।

पुराणों की मान्यता है कि भगवान श्रीविष्णु के पैर के अंगूठे से निकलने के कारण यह परम पवित्र है। पहले यह स्वर्ग में बहती थी। कठोर तप करके महाराज भगीरथी इसे पृथ्वी लोक पर लाए, इसीलिए इसका एक नाम भागीरथी है। भगीरथ ने अपने कुल के साठ हजार राख बन गए सगर-पुत्रों को इसके स्पर्श से मुक्त किया था।

नदियों का हमारे जीवन में बहुत महत्त्व है, क्योंकि इन नदियों से ही भूमि उपजाऊ बनती है। इसके अलावा इन नदियों के पानी से हमारी दिनचर्या भी पूरी होती है, जैसे कि पीने के लिए, नहाने के लिए, पेड़-पौधों के लिए, जीव जंतुओं के लिए जल की आपूर्ति। भारत में गंगा को गंगा मईया’ इस नाम से भी पुकारा जाता है. परंतु अब यह नदी प्रदूषित हो गई है। आज के समय में गंगा को मैली करने में हम सबका बहुत योगदान है। शहर की सारी गंदगी और कारखानों से निकलने वाले जहरीले पदार्थ भी इस नदी में बहा दिए जाते हैं। इसीलिए अब इस गंगा नदी का पानी पीने लायक नहीं रहा है।

सरकारी और कई गैर सरकारी संस्थाएं इसे साफ करने के कई उपाय कर रही हैं। प्रत्येक वर्ष इसे साफ करने के लिए लाखों-अरबों रुपए खर्च किए जाते हैं, परंतु इसकी स्थिति में कोई सुधार नहीं दिख रहा है। अगर इस नदी का यही हाल रहा तो एक दिन इस नदी का पानी पूरी तरह से प्रदूषित हो जाएगा।

क्या यह सच नहीं है कि मां का ध्यान उसकी संतान नहीं रखेगी, तो भला कौन रखेगा। और फिर पूजा से ही बात नहीं बनती है, सेवा का, देखरेख का, संभाल का अपना विशेष महत्त्व होता है। इसलिए हम सबको प्रण लेना चाहिए। की हम इसे साफ रखने में अपना पूरा योगदान देंगे।

यह भी पढ़ें

दूरदर्शन  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Doordarshan in Hindi
डॉ. राजेंद्र प्रसाद  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण 200-300 Words Essay speech on Dr Rajendra Prasad in Hindi
ईद  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Eid in Hindi
हाथी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Elephant in Hindi

200-300 Words Essay speech on River Ganaga in English

200-300 Words Essay speech on River Ganga

The Ganges River is one of the ancient rivers of India and has a history of its own. It is accepted as a symbol of the faith of all Indians, so it is as if it is a living faith. This river emerges from the lap of the Himalayas and comes to the plains.

It is believed in the Puranas that due to the emergence of the toe of Lord Shri Vishnu, it is most sacred. Earlier it used to flow in heaven. Maharaj Bhagirathi brought it to the earth world by doing severe penance, that is why it has the name Bhagirathi. Bhagirath had freed the Sagara-sons from its touch, which had become sixty thousand ashes of his clan.

Rivers are very important in our life because it is only from these rivers that the land becomes fertile. Apart from this, our daily routine is also fulfilled by the water of these rivers, such as the supply of water for drinking, for bathing, for plants and animals. In India, Ganga is also called by this name ‘Ganga Maiya’. But now this river has become polluted. In today’s time, we all have a lot to contribute to making the Ganges dirty. All the dirt of the city and the toxic substances coming out of the factories are also thrown into this river. That is why now the water of this river Ganges is not fit for drinking.

The government and many non-government organizations are taking many measures to clean it. Every year lakhs and billions of rupees are spent to clean it, but there is no improvement in its condition. If the condition of this river continues, then one day the water of this river will be completely polluted.

Is it not true that the mother will not take care of her child, then who will take care of it? And then worship does not make a difference, service, care, and handling have their own special importance. That’s why we all should take a vow. That we will do our best to keep it clean.


मै आशा करती हूँ कि  गंगा नदी  पर   पर लिखा यह निबंध ( गंगा नदी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on River Ganaga in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.