X

राजीव गांधी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi in Hindi

राजीव गांधी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi in Hindi

राजीव गांधी से जुड़े छोटे निबंध जैसे राजीव गांधी पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Rajeev Gandhi in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की जब हत्या हुई, उस समय देश की परिस्थितियां ऐसी थी कि तब किसी कार्यवाहक प्रधानमंत्री की आवश्यकता न समझते हुए राजीव गांधी को ही प्रधानमंत्री बनाया गया। तब राजीव गांधी देश के छठे प्रधानमंत्री बने थे। 31 अक्टूबर, 1984 की शाम 6.15 बजे उन्हें राष्ट्रपति ज्ञानी जैलसिंह ने शपथ दिलाई। यह निर्णय उस समय जहां कांग्रेस पार्टी के हित में था. वहीं देश के सामने भी इसका कोई विकल्प नहीं था। इस निर्णय से देश को युवा शक्ति भी एक नए उत्साह से भर उठी थी।

राजीव गांधी देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री बने इंदिरा जी जब प्रधानमंत्री बनी तो उस समय उनको अवस्था 49 वर्ष थी, जबकि राजीव गांधी जब प्रधानमंत्री बने तो उस समय उनकी अवस्था 40 वर्ष थी। इसीलिए राजीव गांधी के प्रधानमंत्री बनने पर युवाओं में विशेष उत्साह पैदा हुआ।

राजीव गांधी ने भी मतदान के लिए न्यूनतम आयु 21 वर्ष से घटाकर 18 वर्ष कर दी। देश की जनता ने 1985 के आम चुनावों में उन्हें प्रचंड बहुमत दिया। 543 में से 415 सीटें उन्हें लोकसभा में मिलीं।

इस बात को सभी स्वीकार करते हैं कि राजीव गांधी जिस समय प्रधानमंत्री बने, उस समय आदर्शों और सिद्धांतों की राजनीति नहीं रह गई थी। इसीलिए उनकी ईमानदारी और खुली सोच को उनके व्यक्तित्व का नकारात्मक पहलू माना जाने लगा था। यहां यह भी सर्वविदित है कि उन्होंने देशहित के लिए अपनी महत्वाकांक्षा का बलिदान किया था। देश को कम्प्यूटराइज्ड करने में राजीव गांधी की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। इसके लिए उन्हें अपनों तक के खुले विरोध का सामना करना पड़ा था। लेकिन वे जानते थे कि देश को भविष्य में इससे बहुत लाभ होगा। विश्व के कदम के साथ कदम मिलाकर चलने के लिए ऐसा करना जरूरी था। लेकिन देश को वो कुछ और नया दे पाते कि देश के इस सपूत की 21 मई, 1991 में मद्रास के निकट एक आत्मघाती हमले में हत्या कर दी गई।

यह भी पढ़ें :-

युवा पीढ़ी की ताकत  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Power of Young Generation in Hindi
मेरे प्रिय अध्यापक  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on My Dear Teacher in Hindi
प्रदूषण एक गंभीर समस्या  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Pollution a Serious Problem in Hindi
सरदार भगतसिंह  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Sardar Bhagat Singh in Hindi

200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi in English

200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi

When Prime Minister Indira Gandhi was assassinated, the circumstances of the country were such that Rajiv Gandhi was made the Prime Minister without considering the need for a caretaker Prime Minister. Then Rajiv Gandhi became the sixth Prime Minister of the country. He was administered the oath of office by President Gyani Zail Singh on 31 October 1984 at 6.15 pm. This decision was in the interest of the Congress party at that time. At the same time, there was no option in front of the country as well. With this decision, the youth power of the country was also filled with new enthusiasm.

Rajiv Gandhi became the youngest Prime Minister of the country, when Indira Ji became Prime Minister, at that time she was 49 years old, while when Rajiv Gandhi became the Prime Minister, she was 40 years old at that time. That is why when Rajiv Gandhi became the Prime Minister, there was special enthusiasm among the youth.

Rajiv Gandhi also reduced the minimum age for voting from 21 years to 18 years. The people of the country gave him a thumping majority in the 1985 general elections. He got 415 seats out of 543 in the Lok Sabha.

It is accepted by all that when Rajiv Gandhi became the Prime Minister, at that time the politics of ideas and principles was no more. That is why his honesty and open thinking were considered as the negative aspect of his personality. It is also well known here that he had sacrificed his ambition for the sake of the country. Rajiv Gandhi has an important role in computerizing the country. For this, he had to face open opposition even from his loved ones. But they knew that the country would benefit greatly from it in the future. This was necessary to keep pace with the steps of the world. But he could have given something new to the country that this son of the country was murdered in a suicide attack near Madras on May 21, 1991.


मै आशा करती हूँ कि  राजीव गांधी पर लिखा यह निबंध ( राजीव गांधी   पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Rajeev Gandhi in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.