X

समाचार-पत्र पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on News Paper in Hindi

समाचार-पत्र पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on News Paper in Hindi

समाचार-पत्र से जुड़े छोटे निबंध जैसे समाचार-पत्र पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on News Paper in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on News Paper in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

आज यद्यपि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सबके दिलो-दिमाग पर छाया हुआ है, फिर भी जहां तक प्रामाणिकता का सवाल है, समाचार पत्रों की साख अभी भी – कम नहीं हुई है। हां, उनके लिए समाचारों की प्रस्तुति जरूर एक चैलेंज भरा काम हो गया है।

आज भी समाचार पत्र एक थाली में नाना व्यंजनों को एक साथ खूबसूरती और कुशलता से परोसने का काम कर रहे हैं। मुझे याद है, मेरे पापा सुबह उतना बेड-टी के लिए परेशान नहीं होते हैं. जितना अखबार पढ़ने के लिए। अगर कहीं बाहर जाना पड़े तो वहां उनकी सबसे पहली चिंता यह होती है कि अखबार कहां से मिलेगा।

अखबार पढ़ने के बाद एक अजीब-सी शांति उनके चेहरे पर दिखाई देती है। ऐसा उनके साथ ही नहीं है, मैंने कई लोगों को इस बारे में परेशान होते देखा है। कुछ तो खास-खास खबरों को पढ़कर संतुष्ट हो जाते हैं,

जबकि कुछ शुरू से लेकर आखिर तक समाचार पत्र के एक-एक शब्द को चाटते हैं। यह मानव का सहज स्वभाव है कि वह अपनों के बारे में, अपने आसपास के बारे में और दूसरों के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहता है।

पहले यह जानकारी मौखिक रूप से मिलती थी। सोचकर देखें, जब लंबी पैदल या समुद्री यात्राओं के बाद कोई कहीं पहुंचता होगा, तो उसके आसपास नई-नई जानकारियों को प्राप्त करने वालों की कैसी भीड़ इकट्ठी होती होगी।

जब ‘प्रिंटिंग’ का विकास हुआ तो जिज्ञासा को शांत करने का यह माध्यम बदल गया। तब प्रत्येक क्षेत्र में संबंधित घटनाओं और खोजों की जानकारी छपकर लोगों तक पहुंचने लगी। इस तरह समाचार पत्रों का विकास हुआ। सर्वप्रथम समाचार पत्र 1605 ई. में जर्मनी में छपा। जबकि भारत में ‘द बंगाल गजेट’ के नाम से पहला समाचार पत्र 1780 में प्रकाशित हुआ था।

200-300 Words Essay speech on News Paper in Hindi

यह भी पढ़ें :

लाल किला पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Lal Kila in Hindi
मुंशी प्रेमचंद पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Munshi Premchand in Hindi
लोहड़ी पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Lohri in Hindi
स्कूल का आखिरी दिन पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on My Last Day of School in Hindi
व्यायाम का महत्व पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Importance of Exercise in Hindi

FAQ

भारत में समाचार पत्र की शुरुआत कब हुई?

पहला भारतीय समाचार पत्र अंग्रेज़ी में 1816 ई. में कलकत्ता में गंगाधर भट्टाचार्य द्वारा ‘बंगाल गजट’ नाम से निकाला गया। यह साप्ताहिक समाचार पत्र था।

भारत में समाचार पत्रकारिता का प्रारंभ कब और किससे हुआ?

हिन्दी का पहला पत्र “उदन्त मार्तण्ड” 30 मई 1826 को कलकत्ता से पं. युगल किशोर शुक्ल ने प्रकाशित किया।

बंगाल गजट की स्थापना कब हुआ था?

बंगाल गजट भारत मे प्रकाशित होने वाला एक अंग्रेजी भाषा का पहला समाचार पत्र था। इसके प्रकाशक जेम्स आगस्टस हिक्की (James Augustus Hicky) थे। यह एक साप्ताहिक पत्र था जो कोलकाता से सन् 1779 में आरम्भ हुआ।

भारत का पहला समाचार पत्र कौन सा है ?

1684 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने भारत में प्रिंटिंग प्रेस की स्थापना की। लेकिन भारत का पहला समाचार पत्र निकालने का श्रेय भी जेम्स ऑगस्टस हिकी नामक एक अंग्रेज को प्राप्त है, जिसने वर्ष 1780 में ‘बंगाल गजट’ का प्रकाशन किया था।

विश्व का प्रथम समाचार पत्र कौन सा है?

विश्व में पत्रकारिता का आरंभ सन 131 ईस्वी पूर्व रोम में हुआ था। उस साल पहला दैनिक समाचार-पत्र निकलने लगा। उस का नाम था – “Acta Diurna” (दिन की घटनाएं). वास्तव में यह पत्थर की या धातु की पट्टी होता था जिस पर समाचार अंकित होते थे ।

प्रथम उर्दू समाचार पत्र कौन सा था?

1912 -अल बलघ, अल-हिलाल (उर्दू, साप्ताहिक)

हिंदी का प्रथम दैनिक समाचार पत्र कौन सा था?

समाचार “सुधावर्षण” हिन्दी का प्रथम दैनिक समाचार पत्र था। इसका सम्पादन सन 1854 में श्यामसुन्दर सेन ने किया।

पहला अखबार कब निकाला गया जिस पर भारतीयों का स्वामित्व था?

1861 में बम्बई के तीन अख़बारों का विलय करके टाइम्स ऑफ़ इण्डिया की स्थापना भी ब्रिटिश हितों की सेवा करने के लिए रॉबर्ट नाइट ने की थी। 1849 में गिरीश चंद्र घोष ने पहला बंगाल रिकॉर्डर नाम से ऐसा पहला अख़बार निकाला जिसका स्वामित्व भारतीय हाथों में था। 1853 में इसका नाम बदल कर ‘हिंदू पैट्रियट’ हो गया।

भारत का सबसे पुराना वर्तमान अंग्रेजी अखबार कौन सा है?

द टाइम्स ऑफ इंडिया ‘टाइम्स समूह’ और ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ के स्वामित्व वाला एक अंग्रेजी अखबार है। यह भारत का सबसे पुराना अंग्रेजी भाषा का समाचार पत्र है। यह वर्ष 1838 में ‘द बॉम्बे टाइम्स’ और ‘जर्नल ऑफ कॉमर्स’ के रूप में शुरू हुआ था बाद में ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ बन गया।


मै आशा करती हूँ कि  समाचार-पत्र पर लिखा यह निबंध ( समाचार-पत्र पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on News Paper in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.