X

भारत का राष्ट्रीय चिह्न पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi

भारत का राष्ट्रीय चिह्न पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi

भारत का राष्ट्रीय चिह्न से जुड़े छोटे निबंध जैसे भारत का राष्ट्रीय चिह्न पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

राष्ट्रीय चिह्न का अभिप्राय उस चिह्न से है, जिससे कोई भी राष्ट्र पूरी दुनिया में पहचाना जाता है। प्रत्येक स्वतंत्र राष्ट्र का एक राष्ट्रीय चिह्न होता है, जिसका प्रयोग उस राष्ट्र के प्रत्येक राजकीय कार्यों में किया जाता है। यही चिह्न ‘राष्ट्रीय चिह्न’ कहलाता है। जिस प्रकार ब्रिटेन का गुलाब फूल, जापान का गुलदाउदी, पाकिस्तान का चांद-तारा, नेपाल का खुखरी, अमेरिका का गोल्डन रॉड तथा रूस का हंसिया हथौड़ा राष्ट्रीय चिह्न हैं, उसी प्रकार ‘अशोक चक्र’ भारत का राष्ट्रीय चिह्न है।

भारत के हर राष्ट्रीय कार्य में इस चिह्न का प्रयोग होता है। यही कारण है कि सांसदों के पत्रों पर, पाठ्य पुस्तकों पर, राज्य एवं केंद्र सरकार की राजपत्रित पुस्तिकाओं पर, भारतीय सिक्कों-नोटों पर, राज्यपाल और राष्ट्रपति के वाहनों पर तथा राष्ट्रीय स्मारकों पर यह चिह्न अंकित रहता है।

भारत के राष्ट्रीय चिह्न का इतिहास सम्राट अशोक से जुड़ा हुआ है। सम्राट अशोक धार्मिक एवं कलाप्रेमी थे। उन्होंने कई स्तंभों का निर्माण कराया, जिन्हें ‘अशोक स्तंभ’ या ‘अशोक की लाट’ के नाम से जाना जाता है। इन्हीं स्तंभों में से एक सारनाथ के शीर्ष सिंह को भारत के राष्ट्रीय चिह्न के रूप में 26 जनवरी, 1950 को संवैधानिक मान्यता दी गई। इसमें एक गोल चबूतरे पर चार सिंह पीठ से पीठ सटाए उकडूं बैठे दिखाए गए हैं। गोल चबूतरे के अग्रभाग के मध्य में एक चक्र अंकित है। चक्र के दोनों ओर क्रमश: वृषभ और घोड़े के चिह्न हैं। इसके नीचे भारत का राष्ट्रीय वाक्य ‘सत्यमेव जयते’ लिखा है।

राष्ट्रीय चिह्न पर खुदा हुआ हर चित्र अपनी विशेषता का प्रतीक है। सिंह साहस, वीरता और चौकसी का प्रतीक है, तो वृषभ कठिन परिश्रम का, अश्व शक्ति का तथा चक्र धर्म का द्योतक है। ‘सत्यमेव जयते’ का अर्थ है-सत्य की ही विजय होती है। भारत के प्रत्येक नागरिक को अपने आचरण में इन गुणों का समावेश करना चाहिए। इस प्रकार सारनाथ का यह स्तंभ कला एवं संस्कृति और प्रत्येक धर्म की दृष्टि से बेजोड़ है। अतः धर्म एवं कला की इस अनुपम कृति को स्वतंत्र भारत का राष्ट्रीय चिह्न बनाना सर्वथा उचित है I

200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi

FAQ

हमारे देश की राष्ट्रीय चिन्ह क्या है?

हमारे देश की राष्ट्रीय चिन्ह ‘अशोक चक्र’ हैI

भारत का राजचिन्ह कहाँ से लिया गया?

भारत का राजचिह्न सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ से लिया गया है, यह सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है। मूल स्तंभ में शीर्ष पर चार सिंह हैं, जो एक-दूसरे की ओर पीठ किए हुए हैं।

राष्ट्र चिह्न के नीचे अंकित सत्यमेव जयते कहाँ से लिया गया है?

 राष्ट्र चिह्न के नीचे अंकित सत्यमेव जयते मूल रूप से “मूण्डकोपनिषद” से लिया गया है ।

राष्ट्रीय चिन्ह में कितने शेर होते हैं?

राष्ट्रीय चिन्ह में 4 शेर हैंI

यह भी पढ़ें :-

भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण

राष्ट्र गीत वंदे मातरम् पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण

मै आशा करती हूँ कि  भारत का राष्ट्रीय चिह्न पर लिखा यह निबंध ( भारत का राष्ट्रीय चिह्न पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on National Symbol of India in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.