X

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on National Emblem of India in Hindi

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on National Emblem of India in Hindi

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक   से जुड़े छोटे निबंध जैसे भारत का राष्ट्रीय प्रतीक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on National Emblem of India in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on National Emblem of India in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक अशोक सारनाथ स्थित अशोक के सिंह स्तंभ से लिया गया है। सारनाथ भारत देश के उत्तर प्रदेश राज्य के वाराणसी के निकट है। यह राज चिन्ह सारनाथ के संग्रहालय में सुरक्षित है।

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक में चार एशियाई शेर एक दूसरे के विपरीत दिशा में चारों दिशाओं को सुरक्षात्मक मुद्रा में हैं। भारत सरकार द्वारा 1950 में अंगीकृत किए गए राष्ट्रीय प्रतीक में मात्र तीन शेर ही दिखाई देते हैं, चौथा शेर छिपा हुआ है। इसके नीचे घंटे के आकार के पद्म के ऊपर एक चित्र वल्लरी में एक हाथी, चौकड़ी भरता हुआ एक घोड़ा. एक सांड तथा एक सिंह की उभरी हुई मूर्ति है। इसके बीचोबीच में चक्र बने हैं।

एक ही पत्थर को काटकर बनाए गए इस सिंह भारत के प्रतीक के नीचे आदर्श वाक्य देवनागरी लिपि में ‘सत्यमेव जयते’ लिखा हुआ है जिसका अर्थ है सत्य की सदा ही जीत होती है। यह उक्ति मुंडक उपनिषद् से ली गई है। ऐसा कहना भी युक्तिसंगत होगा कि यह हमारे भारत का अहिंसा और सत्य का प्रतीक भी है।स्तंभ के ऊपर ‘धर्मचक्र’ रखा हुआ है।

यह भी पढ़ें

महात्मा गाँधी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Mahatma Gandhi in Hindi
आम-भारत का राष्ट्रीय फल  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Mango National Fruit of India in Hindi
भारत-एक लोकतंत्र देश   पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on India- A Democratic Country in Hindi
भारतीय संस्कृति    पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi
स्वतंत्रता दिवस पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Independence Day in Hindi

200-300 Words Essay speech on National Emblem of India in English

200-300 Words Essay speech on National Emblem of India

The National Emblem of India Ashoka is derived from the Lion Pillar of Ashoka at Sarnath. Sarnath is located near Varanasi in the state of Uttar Pradesh, India. This royal symbol is preserved in the museum of Sarnath.

The national emblem of India has four Asiatic lions facing each other in a protective posture in all four directions. The national emblem adopted by the Government of India on 26 January 1950 shows only three lions, the fourth one is hidden. Below it is a picture on top of the hour-shaped Padma, an elephant in a Valerie, a horse carrying a quartet. There is a raised statue of a bull and a lion. There are circles in the middle of it.

The motto ‘Satyamev Jayate’ is written in Devanagari script below the symbol of India, carved out of a single stone, which means truth always wins. This quote is taken from the Mundaka Upanishad. It would also be logical to say that it is also a symbol of non-violence and the truth of our India. ‘Dharmachakra’ is placed on top of the pillar.


मै आशा करती हूँ कि  भारत का राष्ट्रीय प्रतीक पर लिखा यह निबंध ( भारत का राष्ट्रीय प्रतीक   पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on National Emblem of India in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.