X

मेरी दिनचर्या  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on My Routine in Hindi

मेरी दिनचर्या  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on My Routine in Hindi

मेरी दिनचर्या से जुड़े छोटे निबंध जैसे मेरी दिनचर्या पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on My Routine in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on My Routine in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में जो कार्य करते हैं, उसे दिनचर्या कहते हैं। दिनचर्या की शुरुआत प्रात: 4 बजे से होती है। लेकिन ऐसा तभी संभव है, जब आप रात्रि में जल्दी सो जाए। सूर्योदय के पहले के समय को विशेष माना जाता है। इस समय प्रकृति शांत और स्थिर होती है। इसीलिए मान्यता है कि इस समय में किया गया कार्य अपने लक्ष्य को अवश्य प्राप्त होता है।

प्रत्येक व्यक्ति को अपनी दिनचर्या अनुशासित बनानी चाहिए, ताकि वह अपना जीवन सही तरीके से गुजार सके। आपने यह कहावत सुनी होगी कि रोज एक कदम चलने वाला एक साल में 365 कदम चल लेता है। यह यात्रा सुखद होती है। इससे किसी तरह की थकान भी नहीं होती।

कुछ बरस पहले तक हमारी दिनचर्या बेहद ही अनुशासित होती थी, इसीलिए तब के लोग स्वस्थ और मेहनती रह पाते थे। यदि हमें भी वैसा होना है। तो हमें अपनी दिनचर्या में अनुशासन को स्थान देना ही होगा।

देखने में आया है कि दैनिक दिनचर्या में अगर निम्नांकित आवश्यक नियमों का पालन किया जाए तो ऊर्जा के विकास में गति तो होती ही है, साथ हो बीमारियों से दूर रहकर स्वस्थ एवं समृद्ध जीवन जीना भी संभव हो जाता है।

• रात्रि में जल्दी अर्थात् 10 बजे तक सो जाएं। दिनचर्या को प्रातः जल्दी 4) बजे से शुरू करें। हल्का व्यायाम करें, फिर नहाकर भगवान की प्रार्थना करने के बाद नाश्ता करें। इसके बाद अपना बैग चैक करके स्कूल जाएं। दोपहर बाद स्कूल से वापस आने पर हल्का नाश्ता लें। भोजन के समय मौन रहें। भोजन को बहुत चबा-चबा कर खाएं।

• टीवी में शिक्षाप्रद और प्रेरक कार्यक्रमों को देखें। खेलने के लिए खुले में पार्क आदि जरूर जाएं। वहां खेलें भी।

• अपना नियमित होमवर्क और स्वाध्याय करें। लिखने का अभ्यास जरूर करें।

यह भी पढ़ें

अनुशासन का अर्थ  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Meaning of Discipline in Hindi
मदर्स डे  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Mother’s Day in Hindi
जवाहरलाल नेहरू  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Jawahar Lal Nehru in Hindi
मेरी यात्रा  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on My Journey in Hindi

200-300 Words Essay speech on My Routine in English

200-300 Words Essay speech on My Routine

The work we do in our everyday life is called routine. The routine starts at 4 in the morning. But this is possible only if you sleep early in the night. The time before sunrise is considered special. At this time nature is calm and stable. That is why it is believed that the work done in this time definitely achieves its goal.

Every person should make his routine disciplined so that he can live his life properly. You must have heard the saying that walking one step every day takes 365 steps in a year. This journey is pleasant. It does not cause any kind of fatigue.

Till a few years ago, our daily routine was very disciplined, that is why the people of that time were able to remain healthy and hardworking. If we want to be like that. So we have to give place to discipline in our daily routine.

It has been seen that if the following essential rules are followed in the daily routine, then there is a speed in the development of energy, but it also becomes possible to live a healthy and prosperous life by staying away from diseases.

• Go to bed early in the night i.e. till 10 o’clock. Start the routine early at 4 in the morning. Do light exercise, then take breakfast after taking bath and praying to God. After that check your bag and go to school. Take a light snack when you come back from school in the afternoon. Be silent while eating. Eat the food very chewy.

• Watch educational and motivational programs on TV. To play, definitely go to the park, etc. in the open. Play there too.

• Do your regular homework and self-study. Make sure to practice writing.


मै आशा करती हूँ कि  मेरी दिनचर्या पर लिखा यह निबंध ( मेरी दिनचर्या   पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on My Routine in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.