X

भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi

भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi

भारतीय संस्कृति से जुड़े छोटे निबंध जैसे भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Indian Culture in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

संस्कृति शब्द ऐसे दो शब्दों से मिलकर बना है, जो प्रायः एक साथ युग्म रूप में प्रयुक्त होते हैं और इन्हें समानार्थक मान लिया जाता है। लेकिन दोनों में अंतर है। दोनों ही शब्दों की विभिन्न विद्वानों ने कई परिभाषाएं दी हैं। लेकिन सीधे सामान्य तौर पर कहें तो संस्कृति का सीधा संबंध संस्कारों से होता है।

संस्कार वो गुणबीज होता है, जिसे व्यक्ति अपने परिवार, समाज, जाति अथवा अपने समूह से विरासत के रूप में पीढ़ी-दर-पीढ़ी प्राप्त करता है तथा जो उस के आंतरिक व्यक्तित्व, गुण, आचार-विचार और सहज स्वभाव के रूप में जाने-अनजाने परिलक्षित होता है।

जब शिष्य अपनी शिक्षा समाप्त कर लेता है, तो गुरु उसे दीक्षा देते हैं. जिसे आजकल आप ग्रेजुएशन सेरेमनी कहते हैं। गुरु पहला सूत्र देते हैं-मातृ देवो भव, पितृ देवो भव, आचार्य देवो भव तथा अतिथि देवो भव।

इसका अर्थ है-माता को देवस्वरूप मानो, पिता को देवस्वरूप मानो, गुरु को देवस्वरूप मानो और अतिथि को देवस्वरूप मानो। पश्चिमी देशों में फादर डे और मदर डे अलग-अलग मनाए जाते हैं। इसमें केवल माता और पिता का नाम है, जबकि उपनिषद् के सूत्र में गुरु और अतिथि का भी नाम दिया गया है। यहां चारों ही में देवता समान हैं।

इसके आगे ऋषि कहते हैं-सत्यं वद, धर्म चर अर्थात् सत्य बोलो और धर्म का आचरण करो। आगे सत्य और धर्म के विषय में कहा गया है।

सत्यं ब्रूयात्, प्रियं ब्रूयात् मा ब्रूयात् सत्यमप्रियम् । प्रियं च नानृतं ब्रूयादेष धर्म सनातनः।।

अर्थात् सत्य बोलो, प्रिय बोलो यानी मीठा बोलो, लेकिन कभी कड़वा सत्य मत बोलो तथा न ही प्रिय लगने वाला झूठ-यही सनातन धर्म है।

सत्य के प्रति आस्था, सत्य का जीवन में आचरण तथा इस परम सत्य को स्वीकार करना कि ‘हम सब एक हैं’ भारतीय संस्कृति का मूल मंत्र है।

यह भी पढ़ें :-

मेरा चुनाव का अनुभव पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on My Election Experience in Hindi
जल ही जीवन है पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Water is Life in Hindi
मेट्रो में मेरा पहला सफर पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on My First Ride in Metro in Hindi
पुस्तकालय पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Library in Hindi

200-300 Words Essay speech on Indian Culture in English

200-300 Words Essay speech on Indian Culture

The word culture is made up of two words, which are often used together and are considered synonyms. But there is a difference between both. Various scholars have given many definitions of both words. But simply put, culture is directly related to culture.

Sanskar is that quality, which a person receives from generation after generation as an inheritance from his family, society, caste, or his group and which is known in the form of his inner personality, qualities, conduct, and innate nature. unintentionally reflected.

When the disciple finishes his education, the Guru gives him initiation. Which nowadays you call Graduation Ceremony. The Guru gives the first sutras – Mother God, Pitru Devo Bhava, Acharya Devo Bhava, and Atithi Devo Bhava.

It means – consider the mother as the god, consider the father as the god, consider the guru as the god and consider the guest as the god. Father’s Day and Mother’s Day are celebrated separately in Western countries. It contains only the names of the mother and father, whereas the sutras of the Upanishads also mention the names of the guru and the guest. Here all the gods are equal.

Next to this, the sages say – Satyam Vad, Dharma Chara, that is, speak the truth and practice righteousness. Further, it has been said about truth and dharma.

सत्यं ब्रूयात्, प्रियं ब्रूयात् मा ब्रूयात् सत्यमप्रियम् । प्रियं च नानृतं ब्रूयादेष धर्म सनातनः।।

That is, speak the truth, speak dear, that is, speak sweet, but never speak the bitter truth, nor a lie that is dear to you – this is Sanatan Dharma.

Belief in truth, practice of truth in life and acceptance of this ultimate truth that ‘we are all one’ is the basic mantra of Indian culture.


मै आशा करती हूँ कि  भारतीय संस्कृति पर लिखा यह निबंध ( भारतीय संस्कृति  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.