X

गाय का महत्व पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Importance of Cow in Hindi

गाय का महत्व पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Importance of Cow in Hindi

गाय का महत्व से जुड़े छोटे निबंध जैसे गाय का महत्व पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Importance of Cow in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Importance of Cow in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

हिंदू ग्रंथों में गाय को पवित्र माना गया है। हिंदुओं की मान्यता है कि इसके शरीर के अंग-प्रत्यंग में तैतीस करोड़ देवी-देवताओं का निवास है। इसीलिए वे इसे पशु नहीं मानते, वे इसे माता कहकर पुकारते हैं।

‘गो सेवा’ की पुराणों में अनेक कथाएं हैं। इनमें एक कथा है मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम के पूर्वज महाराजा दिलीप की। उन्होंने ‘नदिनी’ नामक गो की सेवा करके संतान को प्राप्त किया था, जिसके नाम पर रघुवंश यह नाम विख्यात हुआ।

महाभारत काल में उस राज्य को ज्यादा समृद्ध और ऐश्वर्यवान माना जाता था, जिसके पास जितना ज्यादा गोधन होता था। श्रीकृष्ण की गोचारण लोला भक्तों में बहुत प्रसिद्ध है। श्रीकृष्ण का एक नाम ‘गोपाल’ भी है अर्थात् गो का पालन करने वाला।

गाय की विशिष्टता का अंदाजा इसी से हो जाता है कि जहां सभी पालतू पशुओं की नस्लें आज भी वन्य प्रदेशों में अपने मूलरूप में प्राप्त होती हैं. वहीं गाय के संदर्भ में ऐसा नहीं है।

गाय के माहात्म्य का कारण संभवतया यह है कि इससे भारतीय संस्कृति की दोनों धाराएं-ऋषि और कृषि, पुष्ट होती हैं। ऋषिकुल में यज्ञ आदि कार्यो में गो की महत्वपूर्ण भूमिका थी।

विद्यार्थियों का प्रमुख आहार ही गोदुग्ध होता था। आज यद्यपि इन व्यवस्थाओं में परिवर्तन हुआ है, लेकिन फिर भी ग्रामीण क्षेत्रों में छोटा किसान आज भी इसी का सहारा लेता है। उसके पास खेती के लिए बैल हैं और पौष्टिक पेय के रूप में गाय का दूध बच्चों के संपूर्ण आहार के रूप में गाय के दूध को मान्यता प्राप्त है।

इसीलिए इस दिशा में सरकारी योजनाएं भी कार्य कर रही हैं। अब तो गो-सेवकों ने यहां तक सिद्ध कर दिया है कि गाय यदि दूध नहीं देती है, तो भी वह अपने अन्न-जल के बदले में उससे ज्यादा ही वापस कर देती है, जितने का उस पर खर्च किया जा रहा है।

400 Words Essay, speech on Importance of Cow in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

गाय के मूत्र में पोटेशियम, सोडियम, नाइट्रोजन, फास्फेट, यूरिया, यूरिक एसिड होता है, दूध देते समय गाय के मूत्र में लेक्टोज की वृद्धि होती है। जो हृदय रोगों के लिए लाभकारी है।

गाय एकमात्र ऐसा प्राणी है, जो ऑक्सीजन ग्रहण करता है और ऑक्सीजन ही छोड़ता है।

गाय का दूध फैट रहित परंतु शक्तिशाली होता है उसे पीने से मोटापा नहीं बढ़ता तथा स्त्रियों के प्रदर रोग आदि में लाभ होता है। गाय के गोबर के कंडे से धुआं करने पर कीटाणु, मच्छर आदि भाग जाते हैं तथा दुर्गंध का नाश होता है।

गाय के समीप जाने से ही संक्रामक रोग कफ सर्दी, खांसी, जुकाम का नाश हो जाता है। गौमूत्र का एक पाव रोज़ सुबह ख़ाली पेट सेवन करने से कैंसर जैसा रोग भी नष्ट हो जाता है।

चाय, कॉफ़ी जैसे लोकप्रिय पेय पदार्थों में दूध एक जरूरी पदार्थ है, भारत में ऐसी अनेक मिठाइयाँ जो गौ दूध पर आधारित होती है। दही,मक्खन और घी भारतीय भोजन के आवश्यक अंग हैं। घी में तले व्यंजनों का खाद अप्रतिम होता है। छाछ न केवल प्यास बुझाती हैं बल्की बहुत से प्रचलित व्यंजनों का आधार है।

गाय के सींग गाय के रक्षा कवच होते हैं। गाय को इसके द्वारा सीधे तौर पर प्राकृतिक ऊर्जा मिलती है। यह एक प्रकार से गाय को ईश्वर द्वारा प्रदत्त एंटीना उपकरण है।

गाय की मृत्यु के 45 साल बाद तक भी यह सुरक्षित बने रहते हैं। गाय की मृत्यु के बाद उसके सींग का उपयोग श्रेठ गुणवत्ता की खाद बनाने के लिए प्राचीन समय से होता आ रहा है।

हिंदुओं के हर धार्मिक कार्यों में सर्वप्रथम पूज्य गणेश उनकी माता पार्वती को गाय के गोबर से बने पूजा स्थल में रखा जाता है।

गाय की उपस्थिति का पर्यावरण के लिए एक महत्त्वपूर्ण योगदान है, प्राचीन ग्रंथ बताते हैं कि गाय की पीठ पर के सूर्यकेतु स्नायु हानिकारक विकिरण को रोक कर वातावरण को स्वच्छ बनाते हैं।

कृषि में गाय के गोबर की खाद्य, औषधि और उद्योगों से पर्यावरण में काफ़ी सुधार है। जुताई करते समय गिरने वाले गोबर और गौमूत्र से भूमि में स्वतः खाद डलती जाती है। प्रकृति के 99% कीट प्रणाली के लिये लाभ दायक है, गौमूत्र या खमीर हुए छाछ से बने कीटनाशक इन सहायक कीटों को प्रभावित नहीं करते एक गाय का गोबर 7 एकड़ भूमि को खाद और मूत्र 100 एकड़ भूमि की फसल को कीटों से बचा सकता है।

गाय के गोबर में विटामिन बी-12 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। यह रेडियोधर्मिता को भी सोख लेता है।

यह भी पढ़ें :-

आलस्य पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Laziness in Hindi
गुरु नानक देव जी पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Guru Nanak Dev Ji in Hindi
गुरू पूर्णिमा पर 200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Guru Purnima in Hindi

200-300 Words Essay speech on Importance of Cow in English

200-300 Words Essay speech on Importance of Cow

The cow is considered sacred in Hindu texts. Hindus believe that thirty-three crore gods and goddesses reside in its body parts. That is why they do not consider it as an animal, they call it mother.

There are many stories in the Puranas of ‘Gau Seva’. One of them is the story of Maharaja Dilip, the ancestor of Maryada Purushottam Shri Ram. He had obtained a child by serving a cow named ‘Nadini’, on whose name Raghuvansh became famous.

In the Mahabharata period, that state was considered more prosperous and opulent, which had more cows. Shri Krishna’s Gocharan Lola is very famous among the devotees. One of the names of Shri Krishna is ‘Gopal’ which means the follower of cow.

The uniqueness of the cow can be gauged from the fact that where all the domesticated animal breeds are still found in their original form in the wild areas. However, this is not the case with the cow.

The reason for the importance of the cow is probably that it strengthens both the streams of Indian culture – sage and agriculture. In Rishikul, cow had an important role in yagya etc.

The main food of the students was milk. Today, although there has been a change in these systems, yet the small farmer in rural areas still takes the help of this. He has bullocks for farming and cow’s milk as a nutritious drink. Cow’s milk is recognized as a complete food for children.

That is why government schemes are also working in this direction. Now the cow-sevaks have even proved that even if the cow does not give milk, it gives back more in exchange for its food and water than what is being spent on it.

400 Words Essay speech on Importance of Cow in English

Cow’s urine contains potassium, sodium, nitrogen, phosphate, urea, uric acid, while giving milk, there is an increase in lactose in the cow’s urine. Which is beneficial for heart diseases. Cow is the only animal that takes in oxygen and gives out oxygen.

Cow’s milk is fat-free but powerful, drinking it does not increase obesity and benefits in leucorrhoea, etc. of women. When smoke from cow dung dung, germs, mosquitoes etc. escape and the foul smell is destroyed.

Infectious diseases, cough, cold, cold get destroyed only by going near the cow. A disease like cancer is also destroyed by taking one loaf of cow urine every morning on an empty stomach.

Milk is an essential ingredient in popular beverages such as tea, coffee, and many sweets in India that are based on cow’s milk. Curd, butter and ghee are essential parts of Indian food. The compote of the dishes fried in ghee is incomparable. Buttermilk not only quenches thirst but is the basis of many popular dishes.

Cow horns are the protective shield of the cow. The cow gets natural energy directly through this. It is in a way a God-given antenna device to the cow.

They remain safe till 45 years after the death of the cow. After the death of a cow, its horn has been used since ancient times to make manure of superior quality.

First of all, in every religious work of Hindus, worshiped Ganesha, his mother Parvati, is kept in a place of worship made of cow dung.

The presence of a cow is an important contribution to the environment, ancient texts say that the Surya Ketu nerve on the cow’s back keeps the environment clean by blocking harmful radiation.

The use of cow dung in agriculture, food, medicine and industries has greatly improved the environment. While plowing, the dung and urine that falls on the soil automatically gets fertilized. 99% of nature’s insect system is beneficial, insecticides made from cow urine or fermented buttermilk do not affect these helpful insects, one cow dung can fertilize 7 acres of land and urine can save the crop of 100 acres of land from pests.

Vitamin B-12 is found in abundance in cow dung. It also absorbs radioactivity.

FAQ

गाय क्यों पूजनीय है?

दों में गाय को पूजनीय बताया गया है क्योंकि इसमें 33 कोटि यानी 33 प्रकार के देवताओं का वास माना गया है। इन 33 प्रकार के देवताओं में 12 आदित्य, 8 वसु, 11 रूद्र और 2 अश्विन कुमार हैं। इसलिए केवल एक गाय की सेवा-पूजा कर लेने से 33 कोटि देवताओं का पूजन संपन्न हो जाता है।

गाय को हम माता क्यों मानते हैं?

शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा जी ने जब सृष्टि की रचना की थी तो सबसे पहले गाय को ही पृथ्वी पर भेजा था। सभी जानवरों में मात्र गाय ही ऐसा जानवर है जो मां शब्द का उच्चारण करता है, इसलिए माना जाता है कि मां शब्द की उत्पत्ति भी गौवंश से हुई है। गाय हम सब को मां की तरह अपने दूध से पालती-पोषती है।

कितने देवता गाय में विराजमान होते हैं?

शास्त्रों के अनुसार, गाय में 36 करोड़ देवी देवताओं का वास होता हैं


मै आशा करती हूँ कि  गाय का महत्व पर लिखा यह निबंध ( गाय का महत्व  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Importance of Cow in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.