X

आदर्श बालक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Ideal Boy in Hindi

आदर्श बालक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Ideal Boy in Hindi

आदर्श बालक  से जुड़े छोटे निबंध जैसे आदर्श बालक पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Ideal Boy in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on Ideal Boy in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

आदर्श बालक उसे कहा जाता है, जो ज्ञान और विद्या को ही अपने जीवन का लक्ष्य मानता है। विद्या ही मनुष्य को नम्र, सहनशील और गुणवान बनाती है। विद्या प्राप्त करने के बाद ही एक मनुष्य या एक बालक या एक विद्यार्थी आगे चलकर एक योग्य नागरिक बनता है।

जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जिन्होंने ऊंचाइयों को छुआ है, उनका अध्ययन करने पर स्पष्ट हो जाता है कि कैसे एक साधारण बालक ने मानवीय आदर्शों को अपना कर समाज में अपना एक विशिष्ट स्थान बनाया।

एक आदर्श बालक अच्छी पुस्तकों को पढ़ता है और उनमें लिखी बातों को अपने जीवन में उतारता है। वह अच्छे गुणों को अपनाता है और बुराई से दूर रहता है। आदर्श बालक आगे बढ़कर सबकी मदद करता है। वह भय के कारण किसी गलत मार्ग को नहीं अपनाता। एक आदर्श बालक वही कहलाता है, जो अपने गुरुओं की हर बात मानता है और उनका सम्मान करता है।

एक बालक अपने देश का भविष्य होता है। वही बड़ा होकर एक अच्छा डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक और राष्ट्रपति बनता है। हमारे प्राचीन इतिहास में ऐसी कई कथाएं हैं, जिनमें आदर्श बालकों के बारे में पढ़ने-सुनने को मिलता है। श्रवण कुमार ने अपने अंधे माता-पिता को अपने कंधों पर बिठाकर सारी दुनिया की सैर कराई थी।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को एक आदर्श बालक बनने की प्रेरणा इस कथा ने ही दी थी, वहीं दूसरी ओर एकलव्य ने अपने गुरु के कहने पर अपना अंगूठा काटकर उनके चरणों में रख दिया था। और आचार्य द्रोण के शिष्यों को उसके सामने घुटने टेकने पड़े, जबकि आचार्य की मूर्ति के सामने अभ्यास करके उसने धनुर्विद्या ग्रहण की थी।

इस प्रकार एक आदर्श बालक ही अपने जीवन में आकाश की ऊंचाइयों का स्पर्श कर सकता है। यदि यह कहा जाए कि सफलता आदर्श बालक की दासी बन जाती है, तो यह अतिशयोक्ति न होगी।

यह भी पढ़ें

भगवान महावीर  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in Hindi
चाय  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Tea in Hindi
हॉकी-भारत का राष्ट्रीय खेल  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Hockey-National Game of India in Hindi
होली पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Holi in Hindi

200-300 Words Essay speech on Ideal Boy in English

200-300 Words Essay speech on Ideal Boy

An ideal child is called one who considers knowledge and learning as the goal of his life. Knowledge makes a man humble, tolerant, and virtuous. Only after attaining education does a man or a child or a student become a worthy citizen in the future.

On studying those who have touched the heights in different walks of life, it becomes clear how an ordinary child adopted human ideals and made a special place in society.

An ideal child reads good books and applies what is written in them in his life. He imbibes good qualities and shuns evil. The ideal child goes ahead and helps everyone. He does not take any wrong path out of fear. An ideal child is said to be one who obeys and respects everything of his gurus.

A child is the future of his country. He grows up to be a good doctor, engineer, scientist, and president. There are many such stories in our ancient history, in which we get to read and hear about ideal children. Shravan Kumar carried his blind parents on his shoulders and made him travel the whole world.

The father of the nation, Mahatma Gandhi, was inspired by this story to become an ideal child, while on the other hand, Eklavya cut his thumb and placed it at his feet at the behest of his guru. And the disciples of Acharya Drona had to kneel before him, while he had learned archery by practicing in front of the idol of Acharya.

In this way only an ideal child can touch the heights of the sky in his life. If it is said that success becomes the maidservant of the ideal child, it will not be an exaggeration.


मै आशा करती हूँ कि  आदर्श बालक पर   पर लिखा यह निबंध ( आदर्श बालकपर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Ideal Boy in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.