X

स्वास्थ्य ही धन है पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in Hindi

स्वास्थ्य ही धन है पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in Hindi

बहुत पुरानी कहावत है कि स्वास्थ्य ही धन है (Health is Wealth), स्वास्थ्य ही धन है से जुड़े छोटे निबंध जैसे स्वास्थ्य ही धन है पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

Table of Contents

200-300 Words Essay, speech on Health is Wealth in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

स्वास्थ्य ही धन है-यह बात बचपन से ही हम अपने बुजुगों से सुनते आए। हैं। यह सर्वथा उचित भी प्रतीत होता है क्योंकि स्वस्थ शरीर से ही हम सुख के साधनों को इकट्ठा कर सकते हैं और उनसे सुख भी प्राप्त कर सकते हैं।

स्वास्थ्य विज्ञान का ध्येय है कि प्रत्येक मनुष्य की शारीरिक वृद्धि और उसका विकास पूर्णता में हो, इससे आत्मविश्वास में वृद्धि होती है तथा प्रतिकूलता को अनुकूल बनाने में सहायता मिलती है। स्वास्थ्य का अर्थ केवल रोगरहित और दुखरहित जीवन नहीं है, यह तो पूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक हृष्टता-पुष्टता की दशा है।

इस संदर्भ में हमें यह भी जान लेना चाहिए कि शरीर और मन अलग नहीं हैं, इनमें स्थूल और सूक्ष्म का अंतर है। बस इसीलिए कहा जाता है कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन रहता है और उन्हीं के समुचित संतुलन से व्यक्ति को समाज में प्रतिष्ठा मिलती है। अधिकतम सुखमय जीवन और अधिकतम मानव सेवा का अवसर पूर्ण स्वस्थता से हो संभव है।

स्वस्थ रहने के लिए सैर, साधारण व्यायाम आदि बहुत से साधन हैं. लेकिन योग को इस संदर्भ में अधिक उपयोगी पाया गया है। एक तो इसे कोई भी, कहीं भी कर सकता है, दूसरे इससे शरीर के सूक्ष्मतम स्नायु तंतु भी पुष्ट होते हैं। यहां तक कि इसके नित्य अभ्यास से अंतस्त्रावी ग्रंथियों की क्रियाओं को संतुलित करके उनसे संबंधित रोगों से भी मुक्त हुआ जा सकता है।

सामान्य स्वास्थ्य से सभी परिचित हैं, किंतु पूर्ण स्वास्थ्य का स्तर निश्चित करना अत्यंत कठिन है। प्रत्येक स्वस्थ मनुष्य अपने प्रयास से और भी अधिक स्वस्थ हो सकता है। व्यक्ति के स्वास्थ्य सुधार से समाज और राष्ट्र का स्वास्थ्य स्तर ऊंचा होता है।

जिस प्रकार धन, विद्या, यश आदि जीवन की सफलताएं अपने ही प्रयास से प्राप्त होती हैं, उसी प्रकार अपने व्यक्तिगत स्वास्थ्य के लिए भी प्रत्येक को प्रयत्नशील होना चाहिए, इसकी जिम्मेदारी प्रत्येक की अपनी है।

यह भी पढ़ें :-

पुस्तकालय पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Library in Hindi
भारतीय संस्कृति पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi
मेरा प्रिय मौसम वर्षा पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Indian Culture in Hindi
समय का सदुपयोग पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Good Use of Time in Hindi

200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in English

200-300 Words Essay speech on Health is Wealth

Health is wealth – we have been hearing this from our elders since childhood. Huh. This also seems quite appropriate because only from a healthy body we can collect the means of happiness and can also get happiness from them.

The goal of health science is that every human being’s physical growth and development should be in perfection, this increases self-confidence and helps in adapting to adversity. Health does not mean merely a disease-free and pain-free life, it is a state of complete physical, mental and social fitness.

In this context, we should also know that body and mind are not separate, there is a difference between the gross and the subtle. That’s why it is said that a healthy mind resides in a healthy body and with the proper balance of them, a person gets prestige in society. The opportunity for maximum happiness and maximum human service is possible with perfect health.

There are many ways to stay healthy like walking, simple exercise, etc. But yoga has been found to be more useful in this context. One can do this by anyone, anywhere, secondly, it also strengthens the subtlest nerve fibers of the body. Even with its regular practice, by balancing the activities of the endocrine glands, one can be free from diseases related to them.

Everyone is familiar with general health, but it is very difficult to determine the level of complete health. Every healthy person can become even more healthy by his own efforts. Improvement in the health of the individual raises the health level of society and the nation.

Just as the success of life like wealth, education, fame etc. is achieved by one’s own efforts, similarly everyone should strive for his personal health, it is everyone’s responsibility.


मै आशा करती हूँ कि  स्वास्थ्य ही धन है पर लिखा यह निबंध ( स्वास्थ्य ही धन है  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Health is Wealth in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

FAQ

1-हेल्थ इज वेल्थ का मतलब क्या है?

हेल्थ ईज़ वेल्थ (Health is Wealth) का हिन्दी में मतलब ‘स्वास्थ्य ही धन है‘ होता है जिसे ‘नेक तंदुरुस्ती लाख नियामत’ भी कहा जाता है जिसका मतलब है – अच्छा स्वास्थ्य हमेशा धन से ऊपर होता है।

2-अच्छे स्वास्थ्य का क्या महत्व है?

स्वस्थ रहना आपकी समग्र जीवन शैली का हिस्सा होना चाहिए। एक स्वस्थ जीवन शैली जीने से पुरानी बीमारियों और दीर्घकालिक बीमारियों को रोकने में मदद मिल सकती है। अपने बारे में अच्छा महसूस करना और अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखना आपके आत्म-सम्मान और आत्म-छवि के लिए महत्वपूर्ण है।

3-सबसे बड़ा धन स्वास्थ्य है यह कथन किसका है?

एक महान स्वतंत्रता सेनानी, महात्मा गाँधी (जिन्हें बापू भी कहा जाता है) ने कहा था कि, “वह स्वास्थ ही है जो वास्तविक धन है, न कि सोने व चाँदी के सिक्के।”

4-स्वस्थ रहने के लिए क्या करना चाहिए?

1- स्वस्थ रहने के लिये निम्न कार्य जरूर करने चाहिये –
2- सुबह जल्दी उठें I
3- नाश्ता करना न भूलें स्वस्थ रहने के लिए अच्छी आदतों में शामिल है समय पर नाश्ता करना.
4- खूब पानी पिएं, रोज 4-5 लीटर पानी जरूर पीना चाहिये I
5- पर्याप्त प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट लेना चाहिये I
6- वर्कआउट जरूर करना चाहिये इससे शरीर स्वस्थ रहता है I
7- शरीर की सुनें अर्थात शरीर यदि आराम माँग रहा है तो आराम जरूर करना चाहिये I
8- भरपूर नींद लें, 5-6 घंटे जरूर सोना चाहिये , इससे शरीर को चार्ज होने का समय मिल जाता है I

5-WHO के अनुसार स्वास्थ्य की परिभाषा क्या है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा दी परिभाषा इसके अनुसार स्वास्थ्य रोग का न होना या अशक्तता मात्रा नहीं, बलिक पूर्ण शारीरिक, मानसिक और सामाजिक तन्दुरुस्ती की स्थिति है। पिछले कई वर्षों से इस परिभाषा का विस्तार हुआ जिसमें सामाजिक व आर्थिक रूप से गुणकारी जीवन व्यतीत करने की क्षमता को समिमलित किया गया है।

6-स्वास्थ्य एवं पोषण नीति से आपका क्या आशय है स्पष्ट कीजिए?

पौष्टिक भोजन स्वास्थ्य की एक महत्त्वपूर्ण आधारशिला है। इसलिए शरीर की जरूरतों को पूरा करने के लिए भोजन में उचित मात्रा में आवश्यक पोषक तत्वों की पूर्ति होनी चाहिए। अच्छा पोषण, नियमित शारीरिक गतिविधि और पर्याप्त नींद स्वस्थ जीवन के आवश्यक नियम हैं।

7-किसी व्यक्ति के कामयाब जीवन में स्वास्थ्य की क्या भूमिका है?

(i) अच्छा स्वास्थ्य एक कार्यकर्ता की दक्षता को बढ़ाता है। (ii) व्यक्ति का स्वास्थ्य उसे बिमारियों से लड़ने की क्षमता प्रदान करता है। (iii) स्वास्थ्य व्यक्ति कौशल और उत्पादकता से देश के विकास में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है।

8-मानव पूंजी निर्माण में शिक्षा की क्या भूमिका है?

मानव पूंजी (मानव संसाधन) निर्माण में शिक्षा की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। शिक्षा एवं कौशल किसी व्यक्ति की आय को निर्धारित करने वाले प्रमुख कारक हैं। शिक्षा श्रम की गुणवत्ता में वृद्धि करती है और कुल उत्पादकता में वृद्धि करने में सहायता करती है। कुल उत्पादकता देश के विकास में योगदान देती है।

9-स्वास्थ्य शब्द क्या है संज्ञा?

जी , स्वस्थ्य शब्द संज्ञा है I

10-सामाजिक स्वास्थ्य क्या है इसका क्या महत्व है ?

एक समुदाय का सामाजिक स्वास्थ्य उन्नति, चिंतन, विचारों और दूसरों के प्रति सहानुभूति जैसे कारकों पर निर्भर करता है। इसके अलावा यह शिक्षा, उत्पादन, स्वास्थ्य व व्यकितयों की सामाजिक सुरक्षा पर निर्भर करता है।

11-स्वस्थ रहने के लिए भोजन का क्या महत्व है?

स्वस्थ भोजन ऊर्जा बढ़ाता है, आपके शरीर के कार्यों के तरीके में सुधार करता है, आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और वजन बढ़ने से रोकता है। अन्य भी प्रमुख लाभ हैं। संतुलित आहार आपकी पोषण संबंधी आवश्यकता को पूरा करता है। एक विविध, संतुलित आहार पोषक तत्वों की कमी से बचने के लिए आपको आवश्यक पोषक तत्व प्रदान करता है।

12-इंसान का सबसे बड़ा धन क्या है?

मनुष्य का सबसे बड़ा धन उसका कर्म है। गौ धन गज धन बाजी धन और रतन धन खान धन । जब आवे सन्तोष धन सब धन धुरी समान ।। उसका ज्ञान, उसके व्यवहार, चरित्र और उसकी दूसरों के प्रति ममता।

13-क्या अच्छे भोजन और स्वास्थ्य के बीच कोई संबंध है?

स्वस्थ और सक्रिय जीवन के लिए मनुष्य को उचित एवं पर्याप्त पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। शरीर की आहार संबंधी आवश्यकताओं के तहत पोषक तत्वों की प्राप्ति के लिए अच्छा पोषण या उचित आहार सेवन महत्वपूर्ण है। नियमित शारीरिक गतिविधियों के साथ पर्याप्त, उचित एवं संतुलित आहार अच्छे स्वास्थ्य का आधार है।

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.