X

भगवान महावीर पर 200 – 300 शब्दों में निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in Hindi

भगवान महावीर  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in Hindi

भगवान महावीर से जुड़े छोटे निबंध जैसे भगवान महावीर  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay, speech on God Mahaveer in Hindi for Class 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

जैनियों के 24वें तीर्थकर भगवान महावीर का जन्म ईसा से 599 वर्ष पूर्व चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को 543 वर्ष विक्रम पूर्व वैशाली गणतंत्र के लिच्छिवी वंश के महाराज श्री सिद्धार्थ और माता त्रिशला देवी के यहां हुआ था। समूचे विश्व में रहने वाले जैन मतावलंबी महावीर जयंती को बड़े धूमधाम से मनाते हैं।

जिस समय भगवान महावीर का जन्म हुआ, उस समय भारत अंधविश्वासों के अंधकार में डूबने लगा था पशु बलि और हिंसा का प्रचलन बढ़ रहा था। परस्पर सहयोग और सौहार्द का स्थान ईर्ष्या और द्वेष ने ले लिया था। समन्वय की संस्कृति जातिवाद और वर्ण विभाजन के शिकंजे में कस रही थी। समाज धर्म पुस्तकों में सिमट कर रह गया था। धन लिप्सा और भौतिक भोग-विलास के समक्ष त्याग और अपरिग्रह बौने हो गए थे। ऐसे अंधकारमय समय में क्षितिज पर अहिंसा, सत्य, त्याग और दया की जो किरणें भगवान महावीर के जन्म के फलस्वरूप फूटीं उन्होंने समाज के समस्त अंधकार को नष्ट कर सभ्यता और संस्कृति के सूर्य की रक्षा की। ऐसे अंधकार से प्रकाश की ओर लाने वाले महापुरुष का निरंतर स्मरण करने वाले जैन मतावलंबी भारत ही नहीं विश्व के कोने-कोने में हैं।

भगवान महावीर के जन्म स्थल को लेकर विद्वानों में भले ही मतभेद हो. परंतु इतना निश्चित है कि जब वे भारत में अवतरित होकर जन कल्याण में प्रवृत्त हुए उस समय ईराक में जरथुस्त्र, फिलिस्तीन में जिरेमिया और ईराजकिल, चीन में कन्फ्यूशियस और लाओत्से तथा यूनान में पाइथागोरस, सुकरात और प्लेटो जैसे चिंतकों के विचार जन-जन को आंदोलित कर रहे थे।

महावीर ने इंद्रिय संयम और किसी भी तरह की हिंसा न करने का उपदेश दिया। उनका स्वयं का जीवन मानो इस संदेश का साकार रूप था। भगवान महावीर के संदेश ‘अहिंसा’ को ही केंद्र में रखकर ऐसे परिवर्तन हुए, जिनकी हिंसक साधनों द्वारा पूर्ण होने की संभावना नहीं थी। महात्मा गांधी और नेल्सन मंडेला के जीवन का केंद्र बिंदु यही ‘अहिंसा’ था।

यह भी पढ़ें

डॉ. राजेंद्र प्रसाद  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण 200-300 Words Essay speech on Dr Rajendra Prasad in Hindi
ईद  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Eid in Hindi
हाथी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Elephant in Hindi
गंगा नदी  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on River Ganaga in Hindi

200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in English

200-300 Words Essay speech on God Mahaveer

Lord Mahavira, the 24th Tirthankar of Jains, was born on Chaitra Shukla Trayodashi 599 years ago, 543 years before Vikram, to Maharaj Shri Siddhartha and Mata Trishala Devi of Lichchivi dynasty of Vaishali republic. Jains living all over the world celebrate Mahavir Jayanti with great pomp.

At the time when Lord Mahavira was born, India was drowning in the darkness of superstitions, animal sacrifice and violence were on the rise. Mutual cooperation and harmony were replaced by jealousy and malice. The culture of coordination was tightening in the clutches of casteism and varna division. Society was reduced to religious books. Renunciation and aparigraha were dwarfed in the face of wealth and material pleasures. In such dark times, the rays of non-violence, truth, sacrifice, and mercy that arose on the horizon as a result of the birth of Lord Mahavir saved the sun of civilization and culture by destroying all the darkness of the society. Jains, who constantly remember the great man who brought us from such darkness to light, are not only in India but in every corner of the world.

There may be differences among scholars regarding the place of birth of Lord Mahavir. But it is so certain that when he incarnated in India and engaged in public welfare, at that time the ideas of thinkers like Zarathustra in Iraq, Jeremiah and Irajakil in Palestine, Confucius and Lao Tzu in China, and Pythagoras, Socrates, and Plato in Greece agitated the people.

Mahavira preached a sense of restraint and no violence of any kind. His own life was the embodiment of this message. Keeping Lord Mahavir’s message of ‘non-violence’ at the center, such changes took place, which was not likely to be accomplished by violent means. This ‘non-violence’ was the focal point of the life of Mahatma Gandhi and Nelson Mandela.


मै आशा करती हूँ कि  भगवान महावीर  पर   पर लिखा यह निबंध ( भगवान महावीर  पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on God Mahaveer in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.