X

छत्रपति शिवाजी  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण । 200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in Hindi

छत्रपति शिवाजी  200 – 300 शब्दों में  निबंध, भाषण – 200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in Hindi

छत्रपति शिवाजी से जुड़े छोटे निबंध जैसे छत्रपति शिवाजी  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण  स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11,और 12 में  पूछे जाते है। इसलिए आज हम  200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in Hindi 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 & 12

छत्रपति शिवाजी महाराज या शिवाजी राजे भोसले भारत के महान योद्धा एवं रणनीतिकार थे, जिन्होंने 1674 में पश्चिम भारत में मराठा साम्राज्य की नींव रखी।

शिवाजी का जन्म 1627 को शिवनेरी के पहाड़ी किले में हुआ था। यह किला पूना के उत्तर में था। ये शाहजी भोसले और माता जीजाबाई के पुत्र थे। उन्हें विश्वास था कि उनका पुत्र हिंदूधर्म और सभ्यता-संस्कृति का महान संरक्षक होगा। इसीलिए उन्होंने जहां उनमें दयालुता, सौम्यता, प्रेम और परस्पर सहयोग जैसे सौम्य भाव भरे थे, वहीं उन्हें ऐसा वीर, साहसी, न्यायप्रिय और कुशल योद्धा भी बनाया था, जिसके नाम से ही शत्रु कांप जाता था।

शिवाजी के पिता बीजापुर के राजा की नौकरी में थे। वे अधिकतर घर से दूर रहते थे. इसलिए शिवाजी को केवल अपनी मां की संगति मिली। उनको नियमित शिक्षा नहीं मिल सकी। उनकी मां ने उन्हें एक साधारण बालक के समान पला। वे रामायण और महाभारत की कहानियां सुनने के शौकीन थे। इन कहानियों का उनके मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ा। उनका देश के प्रति अगाध प्रेम और उनका शक्तिशाली चरित्र इन्हीं संस्कारों का परिणाम था।

शिवाजी एक वीर पुरुष थे और छापामार युद्ध की कला में भी प्रयोग थे। मुगल इन्हें ‘पहाड़ी चूहा’ कहते थे औरंगजेब जब इन्हें हराने में असफल रहा तो उन्हें धोखे से उसने कैद कर लिया। वहां शिवाजी एक मिठाई के टोकरे में बैठकर जेल से फरार हो गए। इन्होंने कई वर्षों तक औरंगजेब के मुगल साम्राज्य से संघर्ष किया।

1647 को रामगढ़ के किले में इनका राजतिलक हुआ। शिवाजी का चरित्र बहुत ऊंचा था। ये गऊ, ब्राह्मण, स्त्री तथा सभी धार्मिक ग्रंथों का बहुत आदर करते थे इनके जीवन की अनेक घटनाएं इस सत्य की पुष्टि करती हैं। 1680 को भारत के महान योद्धा और धर्मरक्षक का देहांत हो गया।

यह भी पढ़ें

अब्राहम लिंकन पर  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay, speech on Abraham Lincoln in Hindi
बाल गंगाधर तिलक  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay speech on Bal Gangadhar Tilak in Hindi
संगम स्नान  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay, speech on Bath in Sangam in Hindi
विज्ञान के लाभ  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay, speech on Benifits of Science in Hindi
परोपकार  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण – 200-300 Words Essay, speech on Charity in Hindi

200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in English

200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji

Chhatrapati Shivaji Maharaj or Shivaji Raje Bhosale was a great warrior and strategist of India, who in 1674 laid the foundation of the Maratha Empire in western India.

Shivaji was born in 1627 in the hill fort of Shivneri. This fort was in the north of Poona. He was the son of Shahaji Bhosale and Mata Jijabai. He believed that his son would be a great custodian of Hinduism and civilization. That is why, while he instilled in him gentle expressions like kindness, gentleness, love, and mutual cooperation, he also made him such a brave, courageous, just, and skilled warrior, by whose name the enemy trembled.

Shivaji’s father was in the job of Raja of Bijapur. They mostly lived away from home. So Shivaji got only the company of his mother. He could not get regular education. His mother raised him like an ordinary child. He was fond of listening to stories from Ramayana and Mahabharata. These stories had a deep impact on his mind. His immense love for the country and his powerful character was the result of these values.

Shivaji was a brave man and also had experimented with the art of guerilla warfare. The Mughals called them ‘hill rats’, when Aurangzeb failed to defeat them, he imprisoned them by deceit. There Shivaji escaped from the jail sitting in a sweet box. He fought with the Mughal Empire of Aurangzeb for many years.

He was crowned in 1647 in the fort of Ramgarh. Shivaji’s character was very high. He had great respect for cows, Brahmins, women, and all religious texts, many incidents in his life confirm this truth. In 1680, the great warrior and protector of India died.


मै आशा करती हूँ कि  छत्रपति शिवाजी   पर लिखा यह निबंध ( छत्रपति शिवाजी  200 – 300 शब्दों में  निबंध,भाषण । 200-300 Words Essay speech on Chatrapati Shivaji in Hindi ) आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.