X

घनश्याम दास बिड़ला  पर 10 लाइन निबंध। 10 Lines on Ghanshyam Das Birla in Hindi

घनश्याम दास बिड़ला  पर 10 लाइन निबंध- 10 Lines on Ghanshyam Das Birla in Hindi

घनश्याम दास बिड़ला  से जुड़े छोटे निबंध जैसे घनश्याम दास बिड़ला  पर 10 लाइन निबंध स्कूल में कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, और 12 में पूछे जाते है। इसलिए आज हम 10 lines on Ghanshyam Das Birla in Hindi के बारे में बात करेंगे ।

10 Lines on Ghanshyam Das Birla in Hindi for Class 1, 2, 3, 4, 5 To 12

बिरला ब्रदर्स लिमिटेड। यह कपड़ा, सीमेंट, रेयान, स्टील ट्यूब, चाय, रसायन, और कई अन्य के प्रमुख उत्पादकों में से एक है। घनश्याम दास बिड़ला ने नींव रखी और अरबों डॉलर के राजा बने।

बिड़ला परिवार की गिनती दुनिया के सबसे धनी परिवारों में होती है। बिड़ला परिवार को ब्रिटिश काल से शाही परिवार के रूप में सम्मान मिला है। उस परिवार के महत्वपूर्ण सदस्यों में से एक थे घनश्याम दास बिड़ला। घनश्याम दास बिड़ला के परिवार के बारे में अधिक जानने के लिए, 10 Lines on Ghanshyam Das Birla के Set 1,2,3 देखें।

10 lines on Ghanshyam Das Birla

Set 1- 10 Lines on Ghanshyam Das Birla

  1. घनश्याम दास बिड़ला ब्रिटिश साम्राज्य के भारत में सबसे प्रमुख भारतीय व्यापारियों में से एक थे।
  2. घनश्याम दास बिड़ला का जन्म 10 अप्रैल 1894 को पिलानी, राजस्थान, भारत में हुआ था।
  3. घनश्याम दास बिड़ला के पिता राजा बलदेवदाद बिड़ला थे। वह अपने युग में एक मशहूर व्यवसायी थे।
  4. घनश्याम दास बिड़ला के चार भाई-बहन थे। उनमें से सबसे सफल घनश्याम दास बिड़ला थे।
  5. घनश्याम दास बिड़ला राजनीति में काफी सक्रिय थे। साथ ही उन्होंने खादी आंदोलन पर भी काफी समय बिताया।
  6. घनश्याम दास बिड़ला भारत में एक व्यवसायी थे। उन्होंने खरोंच से शुरुआत की और एक विशाल व्यापारिक साम्राज्य का निर्माण किया।
  7. घनश्याम दास बिड़ला ने अपने करियर की शुरुआत कलकत्ता से की थी। साथ ही उन्होंने साल 1940 में हिंदुस्तान मोटर्स की शुरुआत की।
  8. घनश्याम दास बिड़ला गांधी से बहुत प्रेरित थे और उनके बताए रास्ते पर चले।
  9. इसके अलावा, घनश्याम दास बिड़ला ने वर्ष 1918 में कलकत्ता में जूट मिल्स की शुरुआत की।
  10. 11 जून 1983 को लंदन में उनका निधन हो गया।

एपीजे अब्दुल कलाम  पर 10 लाइन निबंध- 10 Lines on APJ Abdul Kalam in Hindi

Set 2- 10 Lines on Ghanshyam Das Birla

  1. घनश्याम दास बिड़ला का पारिवारिक व्यवसाय उनके दादा शिव नारायण बिड़ला ने शुरू किया था।
  2. घनश्याम दास बिड़ला ने दूसरी शादी की क्योंकि उनकी पहली पत्नी की मृत्यु हो गई थी।
  3. घनश्याम दास बिड़ला भारत में अग्रणी बने। साथ ही, उन्हें व्यवसाय में सफलता के कारण औद्योगिक क्रांति का जनक माना जाता है।
  4. उन्हें भारत की राजनीति में भी दिलचस्पी थी।
  5. घनश्याम दास बिड़ला का व्यवसाय उनकी मृत्यु के बाद उनके बेटों को स्थानांतरित कर दिया गया था।
  6. वर्ष 1926 में, घनश्याम दास बिड़ला केंद्रीय विधान सभा के सदस्यों में से एक बने।
  7. उन्हें लेखन में अद्भुत कौशल मिला। उन्होंने व्याख्याता, भाषण और निबंध लिखे।
  8. घनश्याम दास बिड़ला ने गांधी का अनुसरण किया। कभी-कभी, गांधी घनश्याम दास बिड़ला को सलाह देते हैं।
  9. बिड़ला ने कई शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना की जिनमें बिट्स शामिल हैं। यह भारत के अग्रणी शिक्षण संस्थानों में से एक है।
  10. घनश्याम दास बिड़ला को वर्ष 1957 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

सुभाष चंद्र बोस  पर 10 लाइन निबंध- 10 Lines on Subhash Chandra Bose in Hindi

Set 3- 10 Lines on Ghanshyam Das Birla

  1. घनश्याम दास बिड़ला ने कपड़ा उद्यम शुरू करके उद्योग शुरू किए।
  2. वर्ष 1942 में, भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान, घनश्याम दास बिड़ला ने एक बैंक शुरू करने का विचार विकसित किया। वर्तमान में इसे यूको बैंक के नाम से जाना जाता है।
  3. घनश्याम दास बिड़ला को तीन-चार महीने के लिए अंडरग्राउंड कर दिया गया था। इसका कारण यह है कि वह रोडा-कार्ट्रिज से जुड़ा था।
  4. वर्ष 1940 में घनश्याम दास बिड़ला ने हिंदुस्तान मोटर्स की स्थापना की।
  5. वर्ष 1920 में घनश्याम दास बिड़ला गांधी के संपर्क में आए।
  6. भारतीय स्वतंत्रता के बाद, बिड़ला परिवार ने अपने व्यवसाय का विस्तार किया।
  7. बिड़ला के बड़े सपने थे। इस प्रकार, उन्होंने कलकत्ता में अपना करियर शुरू किया।
  8. घनश्याम दास बिड़ला ने बिड़ला मिशन और बिरला हवेली का निर्माण किया।
  9. घनश्याम दास बिड़ला गांधी के वित्तीय प्रायोजक थे।
  10. वह हरिजन सेवक संघ के अध्यक्ष थे। यह गांधी द्वारा स्थापित एक संगठन था।

FAQ- 10 Lines on Ghanshyam Das Birla

घनश्याम दास बिड़ला के पिता कौन थे?

घनश्याम दास बिड़ला के पिता राजा बलदेवदाद बिड़ला थे। वह अपने युग में एक उपयोगी व्यवसायी थेI

घनश्याम दास बिड़ला को कौन सा पुरस्कार दिया गया था ?

वर्ष 1957 में घनश्याम दास बिड़ला को भारत सरकार द्वारा पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

घनश्याम दास बिड़ला का गांधी से क्या संबंध था?

घनश्याम दास बिरल्स गांधी के निकट सहयोगी थे। वह वर्ष 1916 में गांधी से मिले। गांधी अपने जीवन के अंतिम महीनों में उनके घर पर रहे।

यह भी पढ़ें :

अशफाकउल्ला खान  पर 10 लाइन निबंध- 10 Lines on Ashfaqulla Khan in Hindi

मै आशा करता हूँ कि घनश्याम दास बिड़ला   पर लिखा यह निबंध ( घनश्याम दास बिड़ला   पर 10 लाइन निबंध10 lines on  Ghanshyam Das Birla in Hindi)आपको पसंद आया होगा I साथ ही साथ आप यह निबंध/लेख अपने दोस्तों और परिवार वालों के साथ जरूर साझा ( Share) करेंगें I आपके प्यार और आशीर्वाद का आकांक्षी – कुंवर आदित्य चौधरी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.

संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calendar Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

मेरा नाम कुंवर आदित्य चौधरी है, मै S.B.PUBLIC SCHOOL में क्लास 8TH का स्टूडेंट हूँ , मेरे शौक पढने -लिखने के साथ-साथ क्रिकेट खेलना ,कभी-कभी online गेम खेलना है .मै डॉक्टर बनकर लोगों की सेवा करना चाहता हूँ .

This website uses cookies.