X

बाप बड़ा न भैया, सबसे बड़ा रुपैया- निबंध

बाप बड़ा न भैया, सबसे बड़ा रुपैयानिबंध

रुपए का महत्त्व सर्वोपरि

इस मायावी संसार में रुपए का महत्त्व सर्वोपरि है। रुपया अर्थात्‌ धन। रुपया धन का मूर्त रूप है, क्योंकि वह विनिमय का साधन है। उसी से विविध वस्तुओं की प्राप्ति होती है। अपने से बड़ों का सम्मान और बराबर वालों का आदर रुपए के सम्मुख गौण है। यही कारण है कि रिश्ते-नाते भी अर्थ की सत्ता के इर्द-गिर्द घूमते हैं। गरीब रिश्तेदारी में कौन जाकर खुश होता है ? गिरधर कविराय कहते हैं-

साईं सब संसार में मतलब का व्यौहार।
जब लगि पैसा गाँठ में, तब लगि ताकाँ यार॥
तब लगि ताको यार यार संग ही संग डोले।
पैसा रहा न पास यार मुख सं नहिं बोले॥

गिरधर कविराय

धन ही बल का आधार

आज धन का लोभी मनुष्य माता की निन्दा करता है, पिता का सम्मान नहीं करता, भाई से बात नहीं करता, नौकरों पर क्रोध करता है, पत्नी का भोग्य वस्तु से अधिक मूल्य नहीं समझता। पुत्र तथा पुत्रियों के लिए उसके पास समय नहीं, क्योंकि रुपया उनके रिश्तों में दीवार बनकर खड़ा है। वह धन के वश में है। धन के स्रोत के वश में है। फिर परिवार का सम्मान क्यों करे ?

कहते हैं धन से मोह बढ़ता है । इससे कृपणता, दर्प, अभिमान, भय और उद्देग आते हैं। महाभारत में इन्हें देहधारियों के लिए धन-जनित दुःख माना गया है। महाभारत काल में वेदव्यास जी के विचार संगत होंगे, किन्तु कृपणता, दर्प, अभिमान और उद्बेग तो आज के धनी के सौभाग्य-चिह हैं । रही भय की बात, वह तो उन रिश्तेदारों से रहता ही दूर है, जोउनके धन पर ऐसे मँडराते रहते हैं; जैसे मांस पर चील । क्योंकि मांस सुरक्षित है, इसलिए चील को लगता है कि यहाँ हमें कुछ भी नहीं मिलने वालाI

रुपये या धन का महत्त्व बहुत अधिक है। धन ही बल का सबसे बड़ा आधार है। धन के प्रताप से मूर्ख भी पंडितों के समान आदर पाता है ।इतना ही नहीं तो धन ही प्रभुता (सत्ता) का मूल है। भर्तृहरि के “नीति शतक’ का एक श्लोक है-

यस्यास्ति वित्त सः नरः कुलीनः, स पण्डित: स्‌ श्रुतवान्‌ गुणज्ञः ।
स एव वक्‍ता स च दर्शनीय:, सर्वे गुणा: काञ्चनमाश्रयन्ति ।।

धन में सब गुण निहित है। संसार में धनी ही कुलीन, पंडित, ज्ञानी, गुणी, वक्ता
और सुन्दर माना जाता है।

भर्तृहरि नीति शतक

सम्भवत: इसी कारण लोग आज निजी सम्बन्धों को भी तिलांजलि देकर धन को महत्त्व देते हैं। स्वार्थी संसार में बाप और भैया का सम्मान धन के कारण रह गया है, अन्यथा ये अपमानित होते हैं । सर्व गुण सम्पन्न होने पर भी निर्धन इसी कारण तिरस्कार का पात्र बनता है।

फिर प्रश्न यह है कि धन आने पर धनी रिश्तेदारों को, सगे सम्बन्धियों की सम्मान क्यों दे ? वे आएंगे तो स्वार्थवश, वे मिलेंगे तो चापलूसी करेंगे, वे बात करेंगे तो बेतलब । क्यों ? क्योंकि वे धनी के स्टेटस (बड़प्पन) को नहीं समझते, उसके मिलने-जुलने वालों के स्तर को नहीं पहचानते, वे उसके समय की कीमत नहीं जानते ?

धन के आने पर अभिमान

धन का अभिमानी किसी का सम्मान नहीं करता, किसी को इज्जत नहीं देता, आदर से बैठाता नहीं, चाय को पूछता नहीं। यह सब कुछ सम्भव है। सुकरात कहते हैं, ‘ अच्छा सम्मान पाने का मार्ग यह है कि जो तुम प्रतीत होने की कामना करते हो, वैसा बनने का प्रयास करो। सरदार बल्‍लभभाई पटेल तो स्पष्ट रूप से कहते हैं, ‘मान-सम्मान किसी के देने से नहीं मिलते, अपनी-अपनी योग्यतानुसार मिलते हैं।

किंवदन्ती है कि एक बार एक बाप अपने सादे वस्त्रों में अपने अफसर बेटे से मिलने गया। निजी सचिव ने उसे अन्दर भेज दिया। बेटे के पास कुछ लोग बैठे थे। उसने जब बाप का रूप देखा तो उसे लज्जा आई, उसने उन्हें केबिन में भेज दिया । जब पास बैठे लोगों ने परिचय पूछा तो कह दिया–‘ गाँव का मुँह लगा नौकर है। अब वह बाप तो कहेगा ही कि बेटे की आँख पर धन की, बड़प्पन की पट्टी बंध गई है जो बाप को नहीं पहचानता।

धन का कमाल

रिश्तेदारों की स्थिति देखिए। आपके पास पद है, पैसा है सम्मान है, आप किसी का काम कर देते हैं या करवा देते हैं तो वह ढिंढोरा पीट-पीटकर आपकी इतनी प्रशंसा करेगा कि सौ रिश्तेदार और काम के लिए खड़े होंगे। खड़ी कर दी न मुसीबत। और आर्थिक सहायता कर दी तो लौटाने का नाम नहीं। माँग लिया तो यही कहेंगे इसकी निगाह में तो “ बाप बड़ा न भैया, सबसे बड़ा रुपैया ” ही है।

बीसवों सदी या कलियुग को स्वार्थ-युग की संज्ञा दी है। तुलसी भी कहते हैं, ‘सुर नर मुनि सब के याही रीति, स्वारथ लागि करत सब प्रीति ।’ इसलिए यदि कोई धनी स्वार्थवश अपने को महत्त्व देता है तो इसमें उसका दोष क्या ? वह तो “सब कै यह रीति ‘ पर आचरण कर रहा है।

उपसंहार

संस्कृत की एक लोकोक्ति है–‘ योग्यं योग्येन योजयेत्‌ ।’ अर्थात्‌ योग्य का योग्य के साथ सम्बन्ध उत्तम होता है। योग्यता का अर्थ समान धर्मी या पद भोगना नहीं है, अपितु काबलीयत है, पात्रता है। यदि सम्बन्धी चाहे दूर के हों या समीप के अपने को धनी, ऐश्वर्यवान्‌, श्री सम्पन्न व्यक्ति के अनुकूल होने के भाव पैदा करेंगे तो “बाप बड़ा न भैया, सबसे बड़ा रुपया‘ की कहावत झूठी पड़ जाएगी। अन्यथा तो धन की महत्ता, विलक्षणता, शक्ति तथा सामर्थ्य के सम्मुख भाई-बहन, पिता-पितामह:, बड़े-बुर्जुग का रिश्ता मृत-प्राय है। गीता में कृष्ण की भाँति धन भी मानो पुकार-पुकार कर कह रहा है–

सर्वधर्मान्‌ परित्यज्य मामेक शरणं ब्रज।
अहं त्वां सर्व परापेभ्यो मोक्षयिष्यामि मा शुचः ॥

अरे! तू कुछ भी उचित-अनुचित कर मैं तुझे थाने से, कचहरी से यहाँ तक कि फाँसी से भी छुड़ा लाऊँगा।


यह भी पढ़ें

जहाँ सुमति तहँ सम्पत्ति नाना सूक्ति पर निबंध
जीओ और जीने दो पर निबंध
जो तोको काँटा बुवै ताहि बोई तू फूल-निबंध
तुलसी असमय के सखा धीरज, धर्म, विवेक-निबंध
दया धर्म का मूल है-निबंध

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.
संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.