X

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 10 महत्त्वपूर्ण बिंदु

Table of Contents

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 10 महत्त्वपूर्ण बिंदु

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 1947 में आजादी के बाद से अब तक किसी भी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है।

इमरान खान पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री हैं जिन्हें अपना कार्यकाल पूरा न कर पाने का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। आजादी से लेकर अब तक पाकिस्तान में प्रधानमंत्रियों का एक बहुत दुखद इतिहास रहा है, जिसका सबसे बड़ा कारण सेना का सत्ता में हस्तछेप है I आइये इसके बारे में और जानते हैं –

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 01

1947 में आजादी के बाद से किसी भी पाकिस्तानी प्रधान मंत्री ने अब तक 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है। जबकि इनमे से 3 प्रधानमंत्रियों ने 4 साल पूरे कर लिए थे , वहीं पांच ने (इमरान खान सहित) कम से कम 3 साल का कार्यकाल पूरा किया है ।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 02

पाकिस्तान में अब तक 19 प्रधानमंत्री हो चुके हैं। नवाज शरीफ जहां 3 बार PM थे, वहीं उनकी कट्टर प्रतिद्वंद्वी बेनजीर भुट्टो 2 बार प्रधानमंत्री के पद पर थीं। यहाँ तक कि ये दोनों नेता भी अन्य प्रधानमंत्रियों की तरह अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सके थे। इसके अतिरिक्त , 7 कार्यवाहक प्रधान मंत्री रहे हैं।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 03

तीन नागरिक सरकारों को पाकिस्तानी सेना ने उखाड़ फेंका है। 1958 में, फ़िरोज़ खान नून की सरकार को बर्खास्त कर दिया गया था और जनरल अयूब खान के तहत मार्शल लॉ की स्थापना की गई। जुलाई 1977 में, जनरल जिया उल हक ने “ऑपरेशन फेयरप्ले” नामक तख्तापलट में जुल्फिकार अली भुट्टो को उखाड़ फेंका था। तीसरे उदाहरण में, जनरल परवेज मुशर्रफ ने अक्टूबर 1999 में नवाज शरीफ को अपदस्थ कर दिया था।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 04

पाकिस्तान में राष्ट्रपति के रूप में चार सेना प्रमुख रह चुके हैं और उन्होंने देश पर 75 में से 32 वर्षों तक शासन किया। जनरल जिया 1978 और 1988 के बीच सेना प्रमुख के रूप में सेवा करते हुए राष्ट्रपति थे। जनरल याह्या खान 1969 से 1971 तक सेना प्रमुख-सह-अध्यक्ष रहे। जनरल मुशर्रफ ने 2001 और 2007 के बीच इसी उपलब्धि को दोहराया। अयूब खान ने राष्ट्रपति बनने के बाद खुद को फील्ड मार्शल के पद पर पदोन्नत किया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 05

5 प्रधानमंत्रियों ने अब तक एक सैन्य अध्यक्ष के अधीन कार्य किया है। नूरुल अमीन जनरल याह्या खान के तहत प्रधान मंत्री के रूप में संक्षिप्त रूप से सेवा करने वाले पहले व्यक्ति थे। शौकत अजीज (2004-2007) सेना प्रमुख-सह-अध्यक्ष के अधीन सेवा देने वाले अंतिम प्रधानमंत्री थे।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 06

नवाज शरीफ ने लगातार तीन कार्यकालों के लिए प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया, कुल साढ़े नौ साल। हालाँकि, उन्होंने दो बार – 1993 और 2017 – भ्रष्टाचार के आरोपों में अपना पद गवां दिया था – और उन्हें 1999 में एक सैन्य तख्तापलट का सामना करना पड़ा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 07

पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री लियाकत अली खान के नाम सबसे लंबे कार्यकाल का रिकॉर्ड है। 16 अक्टूबर 1951 को हत्या किए जाने से पूर्व वे 1,524 दिनों के लिए प्रधान मंत्री बने रहे। वह कार्यालय में मरने वाले अबतक के एकमात्र पाकिस्तानी प्रधान मंत्री थे।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 08

एक प्रमुख बंगाली राजनेता, नूरुल अमीन ने 1971 के युद्ध के बीच केवल 13 दिनों के लिए प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। वह 1971 और 1973 के बीच उपराष्ट्रपति भी थे – इस पद को संभालने वाले एकमात्र पाकिस्तानी थे।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 09

पाकिस्तान को अपना पहला आम चुनाव कराने में 23 साल लगे। जब 1970 में चुनाव हुए, तो अवामी लीग ने पूर्वी पाकिस्तान में दो सीटों को छोड़कर सभी पर जीत हासिल की और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) ने पश्चिमी पाकिस्तान में बहुमत हासिल किया। उसी समय की राजनीतिक अराजकता के कारण बांग्लादेश का जन्म हुआ।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों का एतिहासिक दर्द – 10

पाकिस्तान ने पहले 11 वर्षों में 7 प्रधान मंत्री देखे गए। 1951 में लियाकत अली खान की हत्या के बाद, बाद के सात वर्षों में छह लोगों ने पद संभाला। 1950 के दशक के उथल-पुथल के दौरान, मोहम्मद अली बोगरा ने सबसे लंबी अवधि – दो साल और 117 दिनों के लिए पद संभाला।

दोस्तों, अब देखना यह है कि पकिस्तान आखिर कब तक सेना के हाथों की कठपुतली बन कर रहता है I इसमें सबसे बड़ा नुकसान पकिस्तान की जनता का हो रहा है, जो जब भी कोई सरकार चुनती है लिकिन वह सरकार अपना कार्यकाल पूरा नही कर पा रही है I

उम्मीद करता हूँ कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा I यह आर्टिकल आपको कैसा लगा कमेन्ट करके जरूर बताइयेगा I

यह भी पढ़ें-

नवरात्रि में अपनी राशि के अनुसार माँ दुर्गा को चढ़ाएं फूल मनोकामना पूरी होगी

Chanakya Neeti About Friendship

द कश्मीर फाइल्स बनी शीर्ष रैंक वाली फिल्म

यह web story भी देखिये

मै उत्तर प्रदेश के अम्बेडकर नगर जिले से हूँ , मैंने M.B.A. (Marketing) काशी से किया है , मैंने मुख्य रूप से फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री और इन्सोरेन्स सेक्टर में काम किया है , लिखना और महान लोगों के बारे में पढना मेरा मुख्य शौक है , मै बास्केटबाल का प्रदेश स्तर का खिलाडी भी रह चुका हूँ

This website uses cookies.