X

परिवार में नारी की भूमिका | Essay on Role of Woman in Family

परिवार में नारी की भूमिका (Essay on Role of Woman in Family)

परिवार में नारी की भूमिका -पुत्री, पत्नी और माता के रूप में

परिवार में नारी को भूमिका विशेष रूप से पुत्री, पत्नी तथा माता के रूप में है। इन तीनों रूपों में भी परिवार में पली का स्थान सर्वोपरि है। महादेवी वर्मा के शब्दों में ‘ आदिम काल से आज तक विकास-पथ पर पुरुष का साथ देकर, उसकी यात्रा को सरल बनाकर, उसके अभिशापों को स्वयं झेलकर और अपने वरदानों से जीवन में अक्षय शक्ति भर कर मानव ने जिस व्यक्तित्व, चेतना और हृदय का विकास किया है, उसी का पर्याय नारी है।’ माता के रूप में वह ममतामयी बनकर संतान के लिए अखंड सुख-ऐश्वर्य की कामना करती है। पृत्री का महत्त्व तो स्वयमेव निर्धारित है, क्योंकि पत्ती और माता इसी के विकसित रूप हैं।

परिवार में नारी की भूमिका

पत्नी परिवार का आधार है, उसका जीवन-प्राण है। पत्नी गृहस्थी का मूल है। गृहस्थी की आत्मा है। ऋग्वेद के अनुसार तो पत्नी ही घर-परिवार है। परिवार में पत्नी की महत्ता सिद्ध करते हुए महाभारत में लिखा है- ‘घर-घर नहीं, अपितु गृहिणी ही घर है। उसके बिना महल भी बीहड़ जंगल है।’ दूसरी ओर, मानव भूतल पर जन्मत: ऋषि-ऋण, देव-ऋण एवं पितृ-ऋण का ऋणी है। पत्नी यज्ञ में पति के साथ रहकर देव-ऋण से तथा पुत्रोत्पनन कर पितृ-ऋण से मुक्त करवाती है।

भारतीय नारी पारिवारिक रूप में इसलिए महत्त्व पाती है क्योंकि उसके अनेक रिश्ते हैं।डॉ. विद्यानिवास मिश्र के शब्दों में

‘वह सास होती है, बहू होती है, बेटी होती है, बहन होती है, ननद होती है, भाभी होती है, जेठानी होती है, देवरानी होती है और न जाने क्या- क्‍या होती है। इन सबके साथ वह पली भी होती है। इन सारे सम्बन्धों का जो शील के साथ निर्वाह कर पाती है, उसी का भारतीय परिवार में महत्त्व है।’

नदी, नारी और संस्कृति


वाल्मीकि रामायण में परिवार में नारी की भूमिका पर एक महत्त्वपूर्ण श्लोक है-

कार्येषु मंत्री, करणेवु दासी, भोज्येषु माता, रमणेवु रम्भा।
धर्मानुकूला, क्षमया थरित्री, भार्या च षड्गुण्यव्हतीय दुर्लभा ॥

बाल्मीकि रामायण

परिवार में नारी की भूमिका -परिवार में नारी के अनेक रूप

‘काम-काज में मंत्री के समान सलाह देने वाली, सेवादि में दासी के समान कार्य करने वाली, माता के समान सुन्दर भोजन कराने वाली, शयन के समय रम्भा ( अप्सरा) के समान आनन्द देने वाली और धर्म के अनुकूल तथा क्षमादि गुण धारण में पृथ्वी के समान स्थिर रहने वाली, ऐसे छह गुणों से युक्त पत्नी दुर्लभ होती है।

परिवार में नारी की भूमिका -परिवार की स्वामिनी

पत्नी परिवार की स्वामिनी है। परिवार की श्री-समृद्धि की धुरी है। वंश-वृद्धि की नींव है। मानव के कामातुर जीवन का पूर्ण-विराम है। परिवार की चहुँदिशि देख-भाल उसका दायित्व है। पतिपरायणता उसका कर्तव्य है।

पत्नी स्नेह और सौजन्य की देवी है, वह नर-पशु को मनुष्य बनाती है, मधुर वाणी से पारिवारिक जीवन को अमृतमय बनाती है। उसके नेत्रों में पारिवारिक आनन्द के दर्शन होते हैं। वह संतप्त पारिवारिक-हृदय के लिए शीतल छाया है। उसके हास्य में परिवार में छाई निराशा को मिटाने की अपूर्व शक्ति है।

पृथ्वी की-सी सहिष्णुता, समुद्र की-सी गम्भीरता, हिम की-सी शीतलता, पुष्पों की-सी कोमलता-नम्नता, गंगा कौ-सी पवित्रता, वीणा की-सी मधुरता, गौ की-सी साधुता,हिमालत की-सी उच्चता तथा आकाश की-सी विशालता आदि सौम्य गुणों द्वारा माता ही पारिवारिकता, अखण्डता स्थिर रख, श्री-सम्पत्ति की वृद्धि करती है।

परिवार में नारी की भूमिका -नारी का मातृत्व रूप

माता बच्चे को जन्म देकर परिवार को पितृ-ऋण से उऋण करती है । वह तन-मन-धन से एकाग्रचित्त, आत्मविस्मृत हो शैशव में आत्मज की सेवा-शुश्रुषा करती है। बाल्यकाल में संतान को शिक्षा-दीक्षा की पूर्ति के लिए सतत चिन्तित रहती है। पेट को काटकर भी संतान की ज्ञान-वृद्धि करना चाहती है । समय पर भोजन एवं स्वच्छ वस्त्रों का प्रबन्ध तथा पाद्य-वातावरण उत्पन्न कर सन्‍्तान को ज्ञानवान्‌ बनाने में सहायक बनती है। यौवन की दहलीज पर आते ही संतान को गृहस्थ धर्म में प्रवेश करवाती है। विवाह का आयोजन कर स्वयं ‘सास’ की उपाधि से अलंकृत होती है। अब वह पुत्र-वधू को परिवार के संस्कार प्रदान करना अपना कर्तव्य समझती है।

पुत्री की परिवार में भूमिका कालान्तर में पली और माँ की पृष्ठभूमि है। अतः पुत्री की भूमिका आदर्श पत्नी, कुशल गृहिणी तथा उदात्त मातृत्व के गुणों का शिक्षणकाल है। वह परिवार में रहकर दया, ममता, सेवा, धैर्य, सहानुभूति तथा विनय के सौम्य गुणों को सीखती है। शिक्षा-अर्जन कर ज्ञान का वर्द्धन करती है। बुद्धि का विकास करती है। जीवन और जगत्‌ के लिए व्यावहारिक सिद्धांतों, मान्यताओं तथा भावनाओं का प्रयोग करती है।

पुत्री परिवार में रहकर माँ की भूमिका, पिता के व्यवहार, भाई-बहिनों के आचरण को खुली आँखों से देखती है। बुद्धि के अनुसार उसका विवेचन करती है। सत्‌-प्रणाली को गाँठ बाधती है, दुष्कर्मों की हानि से सचेत रहने की शिक्षा ग्रहण करती है।

परिवार में नारी की भूमिका -उपसंहार

नारी के बिना परिवार की कल्पना मृग-मरीचिका है। नारी के सौम्य गुणों के अभाव में परिवार को सुख-शांति असम्भव है । नारी के कर्तव्य-उपेक्षा में परिवार की क्षति है, ह्रास है। नारी के अमंगल में परिवार का विनाश है । नारी की पीड़ा में परिवार का ध्वंस है।

परिवार में नारी की एक महत्त्वपूर्ण भूमिका को स्वीकारते हुए ही मनु जी ने कहा है–‘ यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता।’ अत: नारी-सम्मान में ही परिवार कल्याण है।


यह भी पढ़ें

आधुनिक नारी की समस्याएँ पर निबंध ( Essay on Problems of Modern Woman in Hindi)
आर्थिक स्वतंत्रता और नारी ( Essay on Economic Freedom and Women)
नारी और नौकरी (Essay on Women and Job in Hindi)
कामकाजी महिलाओं की समस्या (Problems of Working Women)
पारिवारिक जीवन (Essay onFamily Life in Hindi)
सेंट्रल बोर्ड ऑफ सैकण्डरी एजुकेशन की  नई ऑफिशियल वेबसाईट है : cbse.nic.in. इस वेबसाईट की मदद से आप सीबीएसई बोर्ड की अपडेट पा सकते हैं जैसे परिक्षाओं के रिजल्ट, सिलेबस,  नोटिफिकेशन, बुक्स आदि देख सकते है. यह बोर्ड एग्जाम का केंद्रीय बोर्ड है.
संघ लोक सेवा आयोग का एग्जाम कैलेंडर {Exam Calender Of -UNION PUBLIC COMMISSION (UPSC) लिंक/Link

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.