X

द कश्मीर फाइल्स बनी शीर्ष रैंक वाली फिल्म

द कश्मीर फाइल्स बनी शीर्ष रैंक वाली फिल्म

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता विवेक अग्निहोत्री की बहुप्रतीक्षित निर्देशित फिल्म ‘ द कश्मीर फाइल्स ‘ ने आखिरकार 11 मार्च 2022 को सिनेमाघरों में रिलीज हुयी थी । फिल्म को दर्शकों से शानदार प्रतिक्रिया मिली है और इसकी प्रशंसा की जा रही है। यहाँ तक कि क्रिटिक्स सर्कल भी इस फिल्म को पसंद कर रहा है ।

द कश्मीर फाइल्स

‘द कश्मीर’ फाइल्स ने अब नवीनतम IMDb टॉप-रेटेड भारतीय फिल्मों की सूची में पहले की शीर्ष रैंक वाली फिल्म ‘ जय भीम ‘ को पछाड़ दिया है। इसका मतलब यह है कि ‘द कश्मीर फाइल्स’ अब IMDb की शीर्ष रैंक पर है

यहां तक ​​कि कुछ बेहतरीन भारतीय फिल्मों जैसे ‘3 इडियट्स’, ‘सोरारई पोट्रु’, ‘सरदार उधम’, ‘सरपट्टा परंबरई’, ‘लगान’, और ‘चक दे! इंडिया’ भी अब इससे पीछे हो गयी हैं । IMDb सूची में दूसरा स्थान वर्तमान में ‘जय भीम’ के पास है।

‘द कश्मीर फाइल्स’ वर्तमान में अपने IMDb होमपेज पर 10/10 का स्कोर हासिल किया है और ‘द कश्मीर फाइल्स’ 19000 से अधिक IMDb उपयोगकर्ताओं द्वारा वोट दिया गया है। इसके अलावा,इस फिल्म ने लगभग 27000 रेटिंग के आधार पर लोकप्रिय मूवी टिकटिंग पोर्टल BookMyShow पर 98% का प्रभावशाली स्कोर हासिल किया है।

विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा लिखित और निर्देशित, ‘द कश्मीर फाइल्स’ जम्मू और कश्मीर में विद्रोह के कारण 1990 के दशक के दौरान कश्मीरी हिंदुओं (जिन्हें कश्मीरी पंडितों के रूप में भी जाना जाता है) के पलायन से संबंधित संवेदनशील विषय के बारे में है।

‘द कश्मीर फाइल्स’ में दिग्गज अभिनेता मिथुन चक्रवर्ती, अनुपम खेर और पल्लवी जोशी के साथ ‘द फैमिली मैन’ के अभिनेता दर्शन कुमार महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। ‘

‘द कश्मीर फाइल्स’ से पहले विवेक अग्निहोत्री ने भारत की पहली भीड़-भाड़ वाली थ्रिलर ‘द ताशकंद फाइल्स’ का निर्देशन किया था। यह फिल्म भारत के पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत के इर्द-गिर्द घूमती है।

अब, यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या ‘द कश्मीर फाइल्स’ IMDb की शीर्ष 250 भारतीय फिल्मों की सूची में शीर्ष स्थान बरकरार रख पाती है या नहीं। फिर भी, और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि फिल्म ने दर्शकों का दिल जीत लिया है।

नमस्कार , मेरा नाम अंजू वर्मा है | मै उत्तर प्रदेश के छोटे से गाँव से हूँ | मै हिंदी भाषा में पोस्ट ग्रेजुएट हूँ| हिंदी साहित्य में मेरा जुड़ाव बचपन से ही रहा है इसीलिए मैंने परास्नातक के लिये हिंदी को ही एक विषय के रूप में चुना |अंग्रेजी के इस दौर में जहाँ हिंदी एक स्लोगन बनता जा रहा है जबकि जनसँख्या का एक बड़ा हिस्सा हिंदी भाषी है |लेकिन हम अंग्रेजी बोंलने को एक हाई सोसाइटी से जुड़ाव का माध्यम मानने लगे हैं | मुझे कुकिंग, घूमने एवम लिखने का शौक है मै ज्यादातर हिंदी भाषा , मोटिवेशनल कहानी, और फेमस लोगों के बारे में लिखती हूँ |

This website uses cookies.